Gwalior Crime News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। खाकी इन दिनों अपने ही अमले से बदनाम है। कभी ट्रकों से वसूली तो कभी शराब के अडडों से सांठगांठ के मामले सामने आ रहे हैं। आए दिन पुलिस स्टाफ के वीडियो सामने आ रहे हैं और इंटरनेट मीडिया पर वायरल हैं। पुलिस अमले की इस बैखौफी का कारण वरिष्ठ अफसरों का कोई खौफ न होना है। पुलिस की इस किरकिरी का सिलसिला रोकने के लिए बुधवार को पुलिस कप्तान अमित सांघी ने साफ निर्देश दिए दिए कि अब किसी थाने से ऐसी शिकायत आएगी तो थाना प्रभारी जिम्मेदार माना जाएगा। हालांकि इससे पहले भी ग्वालियर में यह व्यवस्था बनाई गई थी, लेकिन लगाम नहीं लग सकी।

केस -1: पुलिस अधीक्षक ने आंतरी थाने में पदस्थ आरक्षक रवि प्रकाश गुर्जर को बुधवार को निलंबित कर दिया है। 15 जून को इंटरनेट मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें आरक्षक एक डंपर चालक से एंट्री के पैसे वसूलते दिख रहा था। वीडियो वरिष्ठों के संज्ञान में आने के बाद कार्रवाई हुई। आदेश में लिखा है कि आरक्षक का कृत्य वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशों की अवहेलना है। यह आचरण पुलिस की छवि को धूमिल करता है।

केस - 2 : मंगलम गार्डन के बंद कमरे में सटोरिये पप्पू के साथ पार्टी करने पर एएसआइ कमल सिंह चौहान सहित चार जवानों को लाइन भेज दिया है। लाइन अटैच हुए चारों जवानों के पार्टी करते हुए फोटो एसपी के पास एक गोपनीय शिकायत के साथ पहुंचे थे। पप्पू बहोड़ापुर क्षेत्र का चर्चित सटोरिया है।

केस- 3: कुछ दिनों पहले ही गिट्टी से भरे ट्रक को पकड़कर जबरन 10 हजार रुपये वसूलने के आरोप में कंपू थाना टीआइ मनीष धाकड़ और एक सिपाही सुनील राजौरिया को एसपी ने लाइन अटैच कर दिया। एक ट्रक मालिक ने इसकी शिकायत पुलिस कप्तान से की थी। इसके बाद कार्रवाई की गई थी।

केस- 4 : डबरा देहात में साठगांठ कर अवैध शराब के कारोबार चलवाने के आरोप में एसपी ने डबरा देहात थाने के टीआइ के डी कुशवाह और दो एएसआइ सहित पांच पुलिस कर्मियों को लाइन अटैच किया। इस कार्रवाई के बाद से पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े हो गए थे।

एसपी ने बैठक में दिए यह निर्देशः पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने आरक्षकों के पैसे लेते हुए वीडियो वायरल के मामलों को संज्ञान लिया है। उन्होंने आदेश दिया कि जिस भी थाने का आरक्षक के पैसे लेते हुए वीडियो वारयल होते हैं, उसके लिए उस थाने का प्रभारी जिम्मेदार होगा। आरक्षक के साथ थाना प्रभारी पर भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने थाना प्रभारियों को निर्देश दिए हैं कि उन आरक्षकों की सूची बनाएं, जो सड़कों पर वसूली करते हैं। ये निर्देश बुधवार को क्राइम मीटिंग दिए। हाइवे व शहर के नाकों पर पैसे लेते हुए आरक्षकों के वीडियो वारयल हो रहे हैं। कोविड कर्फ्यू से लेकर अब तक छह वीडियो आ चुके हैं। गत दिवस एक आरक्षक का वीडियो आया था। इस मामले को संज्ञान में लिया है।

वर्जन-

छह वीडियो आए हैं। उनमें तीन को निलंबित कर चुके हैं। तीन को लाइन अटैच। पुलिस कर्मियों का इस तरह का आचरण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जो पुलिसकर्मी इस तरह के कार्य कर रहे हैं, उन्हें अब बर्खास्त करने की भी कार्रवाई की जाएगी।

अमित सांघी, एसपी ग्वालियर

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags