Gwalior Crime News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पुलिस ढीले रवैया के कारण अपने ही जवानों की मौत के मामले में उनके स्वजनों को संतुष्ट नहीं कर पा रही है। जवानों की मौत के मामले में पुलिस की विवेचना पर मृतक के स्वजन सवाल खड़े कर रहे हैं, विवेचना में लापरवाही का इशारा कर रहे हैं। ग्वालियर पुलिस के दो मामले सामने आए हैं, जिनमें जवानों की मौत का कारण पुलिस नहीं पता लगा सकी है।

झिांसी रोड थाना के दरोगा की सड़क हादसे में मौत के बाद से अब तक पुलसि आरोपियों तक नहीं पहुंच सकी है। इधर एसएफ के जवान के घर से 11 लाख रुपये की चोरी व मौत के मामले में भी पुलसि किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। एसएफ आरक्षक की मौत को आत्महत्या बताया जा रहा है, जबकि घटना और उसके कारण कुछ और ही इशारा कर रहे हैं। आरक्षक के बेटे हेमंत ने आइजी से मुलाकात कर पिता की मौत का पता लगाने गुहार लगाई है।

एिसएफ आरक्षक की हत्या या आत्महत्या?

एसएएफ में प्रधान आरक्षक लक्ष्मण राव इंग्ले ने 31 दिसंबर को वीआरएस लिया। इसके बाद वे अपने चिटनिस की गोठ वाले घर से अलग सिंधी कॉलोनी स्थित आशीष गुप्ता के घर में किराये से पत्नी के साथ रहने लगे। राव के बेटे हेमंत ने बताया कि 30 जून को पिता ने बैंक से साढ़े आठ लाख रुपये निकाले। तब मां ऊषा चिटनिस की गोठ स्थित पुराने मकान पर ही थीं। पिता ने उन्हें फोन पर रुपये निकालने की जानकारी दी और बताया कि जिस बक्से में पहले तीन लाख रुपये रखे थे उसी में आठ लाख भी रख दिए हैं। उन्होंने मां से घर आने को कहा। दूसरे दिन जब मां सिंधी कालोनी घर पर पहुंची तो देखा पिता मृत पड़े हैं और गले में रस्सी बंधी है। बक्से से 11 लाख रुपये, एटीएम कार्ड और बाइक गायब है। हेमंत का कहना है कि पुलिस ने पिता की मौत के बाद उनका फोन बंद करा दिया था। इसके बाद एक से पांच जुलाई के बीच शहर के अलग-अलग एटीएम से आठ बार में 80 हजार रुपये निकाले गए। पिता की पेशन-प्रो गाड़ी घर से गायब थी। इसकी शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर की तो पुलिस ने तलाश कर ली, पर यह नहीं बताया कि गाड़ी कहां मिली।

विवेचना में इन सवालों के नहीं हैं जवाब़

राव ने 30 जून को साढ़े आठ लाख रुपये निकाले वह कहां है।

- फांसी लगाई तो वह दीवार के सहारे कैसे बैठे और रस्सी कैसे टूटी

- मौत के समय से गायब बाइक पुलिस को कहां और किसके पास मिली

- राव की मौत के बाद एटीएम से पैसा किसने निकाले

- जिन तीन लोगों पर स्वजनों ने आशंका जताई उनसे पूछताछ क्यों नहीं हुई।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local