Gwalior Crime News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मुरैना में जहरीली शराब कांड में 24 की मौत के बाद अब अस्पताल में भर्ती लोगों की आंखों की रोशनी पर संकट छा गया है। जेएएच के आइसीयू में इलाज ले रहे 14 में चार लोगों को धुंधला दिखाई देने लगा है। नेत्र रोग विभाग से विशेषज्ञाें ने इन चारों की आखों की जांच के बाद दवा दी है। उल्लेखनीय है मुरैना में जहरीली शराब पीने से अब तक 24 लोग दम तोड़ चुके हैं।

इलाज में लगे डॉक्टरों का कहना है कि रोशनी वापस आना मुश्किल है, लेकिन इलाज और वक्त के अनुसार कुछ अंतर आ सकता है। बाकी के दस लोगों की नजर में कोई फर्क नहीं पड़ा पर इसमें कुछ लाेगाें की हालत अभी भी चिंताजनक बनी हुई है। डॉक्टरों के अनुसार शराब में मेथेनॉल (मिथाइल अल्कोहल) की अधिक मात्रा हाेने से जहर बन गई। जहरीला पदार्थ पीने पर व्यक्ति की आंख के अंदर मौजूद द्रव्य में ही सबसे पहले परिवर्तन होता है और व्यक्ति अंधा हो जाता है। अस्पताल में भर्ती चार मरीजों काे यही परेशानी हुई है।

इन लोगों की आंखों की रोशनी पर पड़ा फर्क: मानपुर गांव के अतर सिंह, सुनील, रामवीर और प्रसादी नाम के मरीजों को आंखों से कम दिखाई देने लगा है। जबकि बाकी की नजर अभी ठीक बताई गई है।

क्या है मामलाः मुरैना जिले के मानपुर प्रथ्वी आैर छैरा गांव में जहरीली शराब पीने से कई लाेग बीमार पड़ गए थे। जिनकाे इलाज के लिए मुरैना जिला अस्पताल आैर ग्वालियर जेएएच अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अब तक जहरीली शराब पीने से चाैबीस लाेगाें की माैत हाे चुकी है, जबकि कुछ जेएएच में भर्ती हैं।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags