Gwalior Crime News: जाेगेंद्र सेन, ग्वालियर नईदुनिया। मुरार स्थित विजयाराजे सिंधिया कन्या महाविद्यालय से छह माह पूर्व अपह्रत हुई 20 वर्षीय युुवती को ग्वालियर पुलिस ने बिहार से मुक्त करा लिया है। आरोपित कुंदन कुमार यादव ने पश्चिम चंपारण जिले के रामनगर में युवती काे बंधक बनाकर रखा था। आरोपित ने युवती के साथ गलत काम भी किया। आरोपित पुलिस की पकड़ में नहीं आया है। युवती ने बताया कि आराेपित उसके साथ ज्यादती करता था और विराेध करने पर मारपीट करता था। वह दिन भर राेती रहती थी। युवती का सुराग उसके पिता ने कुछ दिन पूर्व पुलिस काे फाेन करके दिया था। पुलिस युवती के अपहरण के आरोपित कुंदन कुमार यादव को पकड़ने के लिए बिहार भेजी जा रही है।

मुरार थाना प्रभारी शैलेंद्र भार्गव ने बताया कि जहांगीरपुरा थाना महाराजपुरा निवासी 20 वर्षीय छात्रा 3 दिसंबर 2020 को मुरार स्थित वीआरजी कालेज आई थी। उसके बाद घर नहीं लौटी। घरवालों ने युवती की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। पुलिस पिछले छह माह से युवती की तलाश कर रही थी, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल रहा था। गुमशुदा युवती ने एक अपरिचित नंबर से पिता काे फाेन करके सूचना दी कि उसे बिहार में किसी स्थान पर बंधक बनाकर रखा है। यह नंबर उसके बाद बंद हो गया। पिता ने युवती के काल आने की सूचना मुरार थाना पुलिस को दी। पुलिस ने इस नंबर को सर्विलांस पर लगाया और सीडीआर भी निकाली। इससे पता चला कि युवती बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के रामनगर में है। पुलिस पार्टी युवती को मुक्त कराने के लिए बिहार पहुंची। स्थानीय पुलिस को साथ लेकर युवती को बरामद करने के लिए दबिश दी। आरोपित कुंदन कुमार यादव निवासी बगाह बिहार युवती को लेकर गायब हो गया। पुलिस के दबाव बनाने पर अपह्रत को गोरखपुर में छोड़कर गायब हो गया। पुलिस गुमशुदा को साथ लेकर लाैट आई है।

बेहोशी की दावा सुंघाकर अपहरण किया थाः युवती ने अपहरणकर्ता से चंगुल से मुक्त होने के बाद बताया कि वह कालेज फीस जमा करने के लिए आई थी। उसी समय किसी ने पीछे से कुछ सुंघाकर अपहरण कर लिया था। उसकी बेहोशी ट्रेन में आगरा में टूटी। उसके बाद आरोपित दिल्ली व नेपाल ले गया। जहां से उसे पश्चिम चंपारण ले आया। जहां उसे छह महीने से बंधक बनाकर रखा था। किसी तरह से मौका मिलने पर उसने पिता को काल किया। आरोपित उसके साथ ज्यादती करता था। विरोध करने पर उसके साथ मारपीट करता था। वहां मैं रोती रहती थी। मैंने उम्मीद ही छोड़ दी थी कि अब घर वापस लौट पाऊंगीं।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags