Gwalior Dharma Samaj News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। दुनिया में हर चीज का मूल्य है, कुछ चीजों का सिर्फ मूल्य है तो कुुछ चीजें बहुमूल्य हैं। एक समय ही है जो अमूल्य है। समय को खरीदा या बेचा नहीं जा सकता। आदमी पैसा तो ज्यादा से ज्यादा कमा सकता है, पर समय नहीं कमाया जा सकता।

यह बात मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ने बुधवार को लोहामंडी स्थित नयागंज पवन जैन के निवास पर चातुर्मास कलश स्थापना के अवसर पर धर्मसभा काे संबोधित करते हुए कही। इस अवसर पर मुनिश्री विजयेश सागर महाराज भी मौजूद थे। मुनिश्री ने कहा कि कपड़ा चूहा भी काटता है और दर्जी भी। चूहा काटता है तो बंटाधार हो जाता है और दर्जी काटता है तो उद्धार हो जाता है। जीवन ज्ञानी अज्ञानी दोनों जीते हैं। अज्ञानी जीवन को तमाशा बनाकर जीता है और ज्ञानी जीवन को तीर्थ बनाकर। जीवन को तीर्थ बनाकर जीना है तो हर रोज कम से कम दो पुण्य जरूर करें। जिस रोज दो पुण्य न कर सको, शाम को दो रोटी कम खाना। रात में भूख लगेगी तो अपने आप अक्ल आ जाएगी। मुनिश्री ने कहा कि पुण्य सबसे बडा सुरक्षाकर्मी है। अत: सत्कर्म करते चलो और पुण्य से झोली भरते चलो। केवल पैसा मत कमाओ, पैसे के साथ प्रतिष्ठा और प्रसन्नता भी कमाआे।

मुनिश्री के सानिध्य चातुर्मास मंगल कलश शोभायात्रा निकाली गईः मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज एवं मुनिश्री विजयेश सागर महाराज के सानिध्य एवं विधायक डॉ सतीश सिकरवार सहित जैन समाज के समाजजनों ने लोहामंडी स्थित लाल गोकुलचंद जैन मंदिर से गाजेबाजे के साथ चातुर्मास कलश शोभायात्रा निकाली। शोभा यात्रा मंदिर से शुरू होकर मुख्य मार्गाें से होती हुई नयागंज स्थित पवन जैन, दिलीप जैन के निवास पर पहुंची।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags