Gwalior Disha Meeting News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नवंबर 2021 तक अमृत की पानी सप्लाई का काम पूरा हो जाना चाहिए, यह नोट कर लीजिए। अक्टूबर तक 56 डीएमए के काम पूरे होंगे, यह भी नोट करें, जो 40 काम बचेंगे वह नवंबर तक पूरे हो जाने चाहिए। वरना में आप पर कार्रवाई करूंगा। सड़कों के रेस्टोरेशन और सड़कों को लेकर स्थिति खराब है। सफाई व्यवस्था में कुछ भी नहीं हो रहा है, कचरा वाहनों की मानीटरिंग नहीं हो रही, कंट्रोल रूम क्या कर रहा है। कचरा कलेक्शन से लेकर डिस्पोजल तक स्थिति ठीक नहीं है। पानी, सफाई और सड़क को लेकर नगर निगम की बेपरवाही पर यह तेवर थे सांसद विवेक नारायण शेजवलकर के। सांसद ने पानी पर दो टूक डेडलाइन दी और सफाई पर नाराजगी जताई। शनिवार को जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक में सांसद योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे।

रेलवे स्टेशन प्रोजेक्ट: डीआरडीइ की एनओसी चाहिएः रेलवे स्टेशन के प्रोजेक्ट को लेकर तकनीकी सलाहकार कंपनी मेसर्स वोयंट्स साल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड की सीनियर मैनेजर सीमा यादव ने प्रजेंटेशन दिया। इसमें बताया गया कि तानसेन रोड स्थित डीआरडीइ परिसर है, जिसके 200 मीटर दायरे के कारण एनओसी नहीं मिली है। वहीं बिजली कंपनी की टीम को भी कार्य करना है। रेलवे बोर्ड से अभी रिक्वेस्ट आफ प्रपोजल स्वीकृत नहीं हुआ है, इसलिए टेंडर नहीं हुए हैं।

अमृत: पानी सप्लाईः

सांसद: 60 टंकियों के डीएमए का काम अगस्त तक पूरा हो जाएगा, आपने ऐसा बताया था।

निगमायुक्त: सर, अक्टूबर 2021 बताया था।

सांसद: तो क्या अक्टूबर तक 60 डीएमए का काम पूरे हो जाएंगे, पानी सप्लाई चालू हो जाएगी। आप नोट कर लें अक्टूबर तक 56 डीएमए का काम पूरा करें। वरना में आप पर कार्रवाई करूंगा।

निगमायुक्त: सर, हम ठेकेदार पर पेनाल्टी लगा रहे हैं, मानीटरिंग कर रहे हैं।

सांसद: मेरी रुचि पेनाल्टी में नहीं, काम में है। नवंबर तक अमृत का काम मुझे पूरा चाहिए।

विधायक सतीश सिकरवार: डीएमए वन में पानी नहीं है, डीएमए टू खोला नहीं गया है।

निगमायुक्त: हम जमीनी स्तर पर चेक करा रहे हैं।

सफाई व्यवस्था व कचरा निष्पादन

सांसद: सफाई व्यवस्था की मानीटरिंग नहीं हो रही है, जमीन पर कुछ भी नहीं हो रहा है।

निगमायुक्त: कचरा वाहनों की जीपीएस से मानीटरिंग कर रहे हैं, कचरा निष्पादन के लिए सर्वे भी हो गया है।

समिति सदस्य: कचरा गाड़ी रुकती ही कहां है, इसलिए कचरा नहीं उठता।

निगमायुक्त: कुछ ही वाहनों के कारण यह शिकायत रहती है।

सांसद: सफाई व्यवस्था के लिए कंट्रोल रूम है, अमला है फिर भी जमीन पर कुछ नहीं दिखता। निगम पहले की तरह बीट सिस्टम से कार्य करे।

निगमायुक्त: सफाई में सबका सहयोग चाहिए, यह जनआंदोलन की तरह लिया जाएगा, तभी हम पूरी तरह सफल होंगे।

खराब सड़क, सुस्त रेस्टोरेशन

सांसद: सारी सड़कें खराब पड़ी हैं, इसमें नगर निगम क्या कर रहा है।

निगमायुक्त: अमृत की खुदाई का रेस्टोरेशन उनकी टीम करती है और जनकार्य की टीम भी खराब सड़कों को दुरुस्त करने का कार्य कर रही है।

सांसद: जहां-जहां सड़कें खोदी गई हैं वहां तत्काल कार्य कराया जाए।

विधायक सिकरवार: अमृत वाले कहते हैं कि जनकार्य खराब सड़क ठीक करेगा, तो जनकार्य कहता है ये अमृत का काम है। नारायण विहार में यही स्थिति है।

बैठक में यह भी रहे खास बिंदुः

-दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना का लाभ छोटे मजरे-टोलों को भी मिले।

-आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य तेज हो।

-डबरा में केन्द्रीय विद्यालय निर्माण का कार्य शीघ्र प्रारंभ हो।

-प्रधानंत्री ग्राम सड़क योजना में सड़कों की गुणवत्ता को लेकर कलेक्टर जांच टीम बनाएंगे।नि ़ामहाराज बाड़ा स्थित पार्किंग को लेकर निगम अफसर निरीक्षण करेंगे और अव्यवस्था दूर करेंगे।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local