- पेड़़ों पर फिर चढ़ी बेलें, नतीजा ट्रिपिंग व फाल्ट

Gwalior Electricity News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर को बिजली के पोलों पर चढी बेलों को हटाने के लिए पोल पर चढ़ना पड़ा था। यह बेलेें फाल्ट व ट्रिपिंग का सबसे बड़ा कारण बन रही थी। मंत्री के इस कदम के बाद बिजली कंपनी पोलों की बेल हटाने के लिए चंद दिन तक हरकत में दिखी, लेकिन अब इन्हें भूल चुकी है। फिर से बेल पोलों पर चढ़ने लगी है। हल्की बारिश होने पर ये फाल्ट व ट्रिपिंग का कारण बन रही है। इसका खामियाजा शहर के लोगों को भुगता पड़ रहा है। सर्दियों में पश्चिमी विक्षोभ से बारिश संभावत है। यदि बारिश होती है बेलें गीली होती हैं सर्दियों में फाल्ट का सामना करा पड़ेगा।

शहर में 11 केवी के 210 फीडर हैं। 33 केवी के 34 फीडर है हैं। 5700 वितरण ट्रांसफार्मर है। पोल व ट्रांसफार्मरों के नीचे कचरा भरा पड़ा है। इस कचरे में झाड़ियां व बेलें ऊग रही हैं। बेलें पोलो पर चढ़ जाती है। बेल में नमी होने से अर्थिंक होना शुरू जाती है, जिससे फाल्ट होते हैं।

मेंटेनेंस के दौरान नहीं रखा जा रहा ध्यान

- वर्तमान में मेंटेनेंस जारी है। मेंटेनेंस के दौरान इसका ध्यान नहीं रखा जा रहा है। पेड़ों की टहनियों को काटकर खानापूर्ति की जा रही है। मेंटेनेंस गेैंग बेलों को नहीं हटा रही है।

- जोन कार्यालय में एक इंजीनियर को मेंटेनेंस की जिम्मेदारी दी है, लेकिन यह मेटेनेंस के दौरान मौजूद नहीं रह रहे हैं।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local