Gwalior Family Court News: बलवीर सिंह. ग्वालियर। आन लाइन मीडिएशन के माध्यम से डेढ़ साल से अलग रह रहे पति-पत्नी फिर से मिल गए, लेकिन पत्नी ने पति के साथ रहने के लिए अपनी शर्तें रखी हैं। पत्नी नौकरी करने जाएगी। पति को चौका-चूल्हा, घर के अन्य कामकाज सहित बच्चे को संभालना होगा। पत्नी शिवपुरी में रह रही थी और पति आगरा में। ग्वालियर से आन लाइन समझौता कराया गया।

विधिक सेवा प्राधिकरण ने तीन जिलों में पायलट प्रोजेक्ट के तहत आन लाइन मीडिएशन की शुरूवात कराई। यह प्रोजेक्ट खत्म हो गया, लेकिन जो पति-पत्नी अलग रहे हैं, इसी माध्यम से मीडिएशन को प्राथमिकता दे रहें। आन लाइन मीडिएशन की जानकारी मिलने के बाद शिवपुरी में रह रही एक युवती ने मीडिएटर हरीश दीवान व बविता दीवान से संपर्क किया। उसके मामले की मध्यस्थता कर पति से विवाद खत्म करा दें। मीडिएटर ने पत्नी की समस्या सुनी। पत्नी ने बताया कि दोनों आगरा में निवास करते थे, लेकिन कोविड-19 के संक्रमण के चलते पिछले साल लाकडाउन लगा। उसी दौरान पति की नौकरी चली गई। घर खर्च चलना मुश्किल हो गया था। वह नौकरी नहीं करने दे रहा था। इसलिए पति को छोड़कर चली आई। अब साथ रहना चाहती हूं। मीडिएटरों ने पति का नंबर लेकर पति से बात की। मीडिएटर की बात सुनकर पति भी तैयार हो गया। पति-पत्नी को आन लाइन जोड़कर समस्या सुनी। एक दूसरे की शर्त बताई। दोनों का विवाह 2017 में हुआ था। आन लाइन मीडिएशन की वजह से एक घर टूटने से बच गया।

पत्नी ने यह रखी शर्तें

- वह एमबीए पास है। इस आधार पर उसे नौकरी मिल सकती है। यदि पति साथ रहना चाहते हैं, उसे नौकरी करने दे। बिना वजह से प्रतिबंध नहीं लगाएगा।

- पति कहीं काम करने नहीं जा रहे हैं, तब तक पति को चौका-चूल्हा से लेकर घर का पूरा काम करना होगा। एक बेटे को भी पति को संभावना होगा।

- यदि पति को काम मिल जाता है तो दोनों नौकरी करेंगे। घर का काम मिलबांट करेंगे।

- इन शर्तों के आधार पर दोनों साथ रहने के लिए तैयार हो गए।

- पत्नी आगरा में पति के पास रहने के लिए जाएगी।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local