Gwalior Fort News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। ग्वालियर किला का मुख्य द्वार को तीरंगे की तीन लाइट में सजाया गया। जिसे देख शहरवासियों के कदम थम से गए। पूरे शहर के लोग किल पर तिरंगे की लाइटिंग का नजारा अद्भुत देखने को मिला। इसके साथ ही लाइट एंड साउंड देखने पहुंचे पर्यटक भी इस नजारे को देख सेल्फी और फोटोग्राफी करने में जुट गए थे। अधिकारियों द्वारा इसकी वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी भी की गई। पर्यटक का कहना था अगर इसी तरह किला जगमगाता रहा तो किला की भव्यता में चार चांद लग जाएंगे। वैक्सीनेशन का 100 करोड़ लक्ष्य को पूरा करने पर संस्कृति मंत्रालयने मध्यप्रदेश के तीन स्मारकों का चयन किया था। जिन्हें तिरंगे की रोशनी में सजाया गया। इस विजय महोत्सव में सांची,रायसेन और ग्वालियर का किला का मुख्य द्वार को सजाया गया । सरकार की इसी मंशा से कि 100 करोड़ वैक्सीनेशन पूरे होने पर महोत्सव मना कर पूरे विश्व को संदेश दिया जाना है।

भारत का जिब्राल्टर माना जाता है ग्वालियर का किला

जिस तरह से स्पेन के जिब्राल्टर के किला अजेय था। इसी तरह ग्वालियर का किला भी अजेय रहा है। ये बात और है कि किले के अंदर रसद आदि खत्म होने की स्थति में किले में रहने वाले लोगों को बाहर युद्ध के लिए निकलना पड़ता था। हालांकि राजस्थान के चित्तोड़ के किले को भी जिब्राल्टर के किले की श्रेणी में रखा जाता है। क्योंकि यह किले को भी जीतना राजाओं और मुगल शासकों केलिए आसान नहीं था।

देश ही नहीं विदेशों से आते लोग किला देखने

ग्वालियर किले को देखने के लिए देश के ही पर्यटक नहीं आते, बल्कि विदेशी पर्यटकों के लिए भी किला आकर्षण का केन्द्र है। हजारों विदेशी पर्यटक इसे दिखने के लिए आते हैं।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local