Gwalior Health News: ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। कड़ाके की सर्दी ने माइग्रेन व सर्वाइकल स्पोन्डिलाइटिस की शिकायत बढ़ा दी है। मरीज इस परेशानी के साथ जेएएच के न्यूरोलाजी विभाग में इन परेशानियों को लेकर पहुंच रहे हैं। करीब 25 फीसद मरीज गर्दन और सिर में दर्द की परेशानी से परेशान है। जबकि 15 फीसद मरीज ब्रेन हेमरेज के पहुंच रहे हैं। इसी तरह से ठंड बच्चों को परेशान कर रही है जिनमें सर्दी,जुकाम, बुखार की शिकायत बढ़ी है। निमोनिया के चलते उन्हें भर्ती करने की जरुरत पड़ रही है। डाक्टरों की सलाह है कि ठंड से बचें। क्योंकि ठंड ही मौसमी बीमारियों का कारण बन रही है जो जानलेवा साबित हो सकती है।

ठंड से बढ़ा माइग्रेन व गर्दन का दर्द-

माइग्रेन की परेशानी-

न्यूरो सर्जन डा विवेक कनकने का कहना है कि ठंड के कारण लोगों में माइग्रेन की परेशानी बढ़ी है। असल में सिर में ठंड लगने से सिर के आधे हिस्से में दर्द होना शुरू हो जाता है। जिसके कारण मरीज को उल्टी व घवराहट होती है। कई बार तो इस दर्द के कारण मरीज अचेत अवस्था में भी चला जाता है। ठंड के कारण हुई इस परेशानी को दवाओं से नियंत्रित करना भी मुस्किल हो जाता है तब मरीज को भर्ती तक करना पड़ता है।

सर्वाइकल स्पोन्डिलाइटिस-

सर्वाइकल स्पोन्डिलाइटिस में मरीज के गर्दन की मासपेशियों में अकड़न आ जाती है। जिससे उसकी गर्दन, सिर में दर्द होने लगता है। इससे हाथ,कंधे व बाहों में झुनझुनाहट की शिकायत होती है।

ब्रेन स्ट्रोक या ब्रेन हेमरेज-

डा कनकने का कहना है कि दिमाग तक खून पहुंचाने वाली नस में खून का थक्का जमने से खून की सप्लाई बाधित होने से ब्रेन स्ट्रोक की शिकायत आती है जिसमें शरीर के जिस हिस्से की नस में खून की सप्लाई बाधित होगी वह काम करना बंद कर देता है। पर ब्रेन हेमरेज में बीपी बढ़ने से खून की सप्लाई देने वाली नस फटने से खून का संचार बाधित होता है। जिससे मरीज की जान जाने का खतरा बढ़ जाता है।

न्यूरो की ओपीडी में केस-

बीमारी के मरीज फीसद

गर्दन की शिकायत 20

माइग्रेन 30

कमर दर्द 20

ब्रेन हेमरेज 30

यह रखें सावधानी-

-बच्चों से लेकर बड़े तक गर्म कपड़े पहनकर रखें।

-सिर को गर्म कपड़े से ढककर रखें।

-माइग्रेन की समस्या हो तो ठंडा खान-पीन,तला हुआ व अधिक नमक के भोजन, खटाई और दूध से तैयार सामान का सेवन न करें।

-गर्दन में दर्द हो तो गर्दन नीचे झुकने वाला काम न करें।

-सिर पर वजन न रखें।

-कमर में दर्द होने पर जमीन पर न बैठें,कुर्सी ,पलंब पर ही बैठें।

-सुबह शाम घूमने न निकलें।

इनका कहना है-

ठंड में बच्चों को सर्दी,जुकाम व निमोनिया की शिकायत हो रही है। निमोनिया के कारण पसलियां चलने लगती है जिससे उन्हें भर्ती कर उपचार देने की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे मौसम में बच्चों को ख्याल रखने की आवश्यकता है।

डा सात्विक बंसल, बाल एवं शिशुरोग विभाग जेएएच

इस मौसम में माइग्रेन की परेशानी तेजी से बढ़ी है।30 फीसद मरीज माइग्रेन व ब्रेन हेमरेज के बढ़े हैं। ठंड से बचाव बहुत आवश्यक है। क्योंकि यह जानलेवा साबित हो सकती है। इसलिए सावधानी रखें और घर में सुरक्षित रहें।

डा विवेक कनकने, न्यूरो सर्जन जेएएच

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close