Gwalior High Court: ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि। राजनीतिक कार्यक्रमों पर रोक लगाने की मांग को लेकर दायर जनहित याचिका पर शुक्रवार को हाई कोर्ट की युगल पीठ ने सुनवाई की है। कोर्ट ने बहस के दौरान टिप्पणी करते हुए कहा कि राजा हो या रंक कानून सभी के लिए बराबर है। राजनीतिक पार्टियों के लिए अलग से कानून नहीं बना है। कोविड-19 एक भयानक समस्या है। इसके बचाव के लिए बनाए गए नियमों का पालन सभी को करना होगा। राजनीतिक पार्टियों के कार्यक्रमों को लेकर एक अंतरिम आदेश पारित करेंगे। 28 सितंबर को याचिका पर फिर से सुनवाई होगी।

अधिवक्ता आशीष प्रताप सिंह ने हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। याचिकाकर्ता ने कहा कि कोविड-19 (कोरोना) की वजह से वैवाहिक आयोजन, अन्य सामाजिक कार्यक्रम व अंत्येष्टी में ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने की इजाजत नहीं है। जबकि शहर में हो रहे राजनीतिक कार्यक्रमों में लोगों की भीड़ उमड़ रही है।

इससे कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। राजनीतिक दलों ने आमजन का जीवन खतरे में डाल दिया है। कोविड को लेकर बनाई गई गाइड लाइन का भी पालन नहीं हो रहा है। शहर में होने वाली सभाओं को प्रतिबंधित किया जाए।

जिससे कोरोना को फैलने से रोका जा सके। याचिकाकर्ता ने हाल ही में हुए भूमि पूजन के कार्यक्रमों के फोटो भी पेश किए। कार्यक्रम में मौजूद लोग न मास्क लगाए हुए थे, न सुरक्षित शारीरिक दूरी के नियम का पालन कर रहे थे। याचिकाकर्ता का पक्ष सुनने के बाद शासन की ओर से कहा गया कि सरकार ने भूमि पूजन कार्यक्रम किए थे, जिसमें कोविड की गाइड लाइन का पालन भी किया गया।

शासन के इस जवाब पर याचिकाकर्ता ने भूमिपूजन व कार्यक्रमों के फोटो दिखाए। जिसमें लोग कोविड-19 को लेकर जारी गाइड लाइन का पालन करते नहीं दिखाई दे रहे थे। हाई कोर्ट ने याचिका पर बहस के बाद राजनीतिक कार्यक्रमों के लिए अंतरिम आदेश पारित करने की बात कही है। साथ ही इस केस को 28 सितंबर को फिर से लिस्ट करने के निर्देश दिए हैं। इस मामले में प्रशासन व पुलिस से भी जवाब मांगा है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इस मामले की सुनवाई हुई।

जबलपुर से वापस लौटाई याचिका

कोरोना की स्थिति को देखते हुए इस जनहित याचिका को सितंबर के पहले सप्ताह में पेश किया गया था। 11 सितंबर को हाई कोर्ट ने याचिका को सुना था। फिर हाई कोर्ट की ग्वालियर खंडपीठ ने इस मामले को जबलपुर हाई कोर्ट ट्रांसफर किया था। चीफ जस्टिस ने याचिका को फिर से ग्वालियर हाई कोर्ट की युगल पीठ में लिस्ट करने का आदेश दिया। ग्वालियर में याचिका पर सुनवाई शुरू हो गई।

चीफ जस्टिस ने एक आदेश जारी किया था कि कोविड-19 से संबंधित जो याचिकाएं हाई कोर्ट में पेश की जाती है, उनकी सुनवाई जबलपुर में होगी। इस वजह से आशीष प्रताप सिंह की याचिका जबलपुर ट्रांसफर की गई थी।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020