- हत्या के आरोपित की जमानत याचिका खारिज

Gwalior High Court's comment on Bhind DJ: बलवीर सिंह. ग्‍वालियर। हाई कोर्ट की एकल पीठ ने हत्या के आरोपित को जमानत दिए जाने के मामले में भिंड के जिला एवं सत्र न्यायालय के जिला न्यायाधीश (डीजे) की कार्य प्रणाली पर गंभीर टिप्पणी की है। कोर्ट ने कहा कि भिंड जिला न्यायाधीश अक्षय कुमार द्विवेदी की न्याय के सिद्धांत के खिलाफ कार्य करने की आदत सी हो गई है। इस मामले को मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस के समक्ष रखा जाए। इस आदेश से जिला न्यायाधीश की मुश्किल बढ़ सकती हैं। वहीं दूसरी ओर कोर्ट ने जिला न्यायाधीश द्वारा जिस व्यक्ति को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया था, उस व्यक्ति की जमानत निरस्त करने नोटिस जारी कर दिया है।

हत्या के आरोपित सिकंदर सिंह नरवरिया उर्फ अलिआस लालू ने हाई कोर्ट में जमानत याचिका दायर की। उसकी ओर से तर्क दिया गया कि इस केस के सह आरोपित गजेंद्र सिंह को जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने जमानत दे दी है। याचिकाकर्ता पर भी वही आरोप हैं, जो गजेंद्र सिंह पर हैं, इसलिए जमानत का लाभ दिया जाए। हाई कोर्ट ने इस मामले की केस डायरी देखी। गजेंद्र सिंह व सिकंदर सिंह पर श्यामलाल जाटव को मारने के आरोप हैं, लेकिन गजेंद्र सिंह को जमानत देते वक्त जिला न्यायाधीश ने इस तथ्य की अनदेखी की। अभियोजन की ओर से पैरवी कर रहे अधिवक्ता सीपी सिंह ने जमानत का विरोध किया। याचिकाकर्ता पर श्यामलाल को मारने का आरोप है। इसलिए जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता है। कोर्ट ने सिकंदर सिंह की जमानत याचिका खारिज कर दी। साथ ही गजेंद्र सिंह की जमानत निरस्त करने के लिए चार अक्टूबर को नोटिस जारी कर दिए हैं।

यह है मामला

-भिंड जिले के बरोही थाना अंतर्गत 29 मई 2021 को श्यामलाल की लालू, ढपलू, गजेंद्र नरवरिया ने लाठी-डंडों से मारपीट की थी। यह गंभीर रूप से घायल हो गया। आरोपित ही उसे लोडिंग में रखकर लाए और जेएएच में भर्ती कराया। उसे अस्पताल में श्यामलाल जाटव के नाम से उपचार के लिए भर्ती नहीं कराया, उसका नाम नाथूराम बताया। आरोपित ओमकार ने नाथूराम का भतीजा बताकर इलाज की सहमति दी। जिस नाथूराम के नाम से भर्ती किया उसकी मौत दस साल पहले ही हो चुकी है।

- इलाज के दौरान नाथूराम के नाम से भर्ती श्यामलाल की मौत हो गई। आरोपित ग्वालियर में अंतिम संस्कार कर गए और उसके नाम से मृत्यु प्रमाण पत्र भी बनवा दिया। कंपू थाने में मर्ग कायम किया गया। श्यामलाल के पड़ोसी ने इस मारपीट का खुलासा किया। श्यामलाल के लड़कों ने बरोही थाने में पिता के गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कराई। बरोही थाने ने कंपू से संपर्क किया तो पूरा मामला खुल गया। तब पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज किया।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local