ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। केंद्रीय जेल ग्वालियर में जेल प्रहरी ही कैदियों को नशे का सामान उपलब्ध करवा रहे थे। कैदी के पास से दो दिन पहले जब चरस मिली तब उससे पूछताछ की गई, पूछताछ में उसने दो जेल प्रहरियों के नाम लिए। जब जेल प्रहरियों की तलाशी ली तो एक के पास से रुपए और दूसरे के पास से गांजे की पुड़िया बरामद हुई। इससे खुलासा हो गया- जेल में जेल प्रहरी ही नशे का सामान पहुंचा रहे हैं। जेल अधीक्षक ने दोनों को निलंबित कर दिया, साथ ही जिस प्रहरी के पास से गांजा बरामद हुआ उस पर एफआइआर के लिए बहोड़ापुर थाने को पत्र लिखा है।

जेल अधीक्षक विदित सरवैया ने बताया कि मंगलवार को कैदी इकबाल चरस के साथ जेल के अंदर पकड़ा गया। जेल में दीवार के पास से वह बोरे में सामान भर रहा था, तभी उसकी तलाशी ली गई तो उसके पास से चरस मिली। जब उससे पूछताछ की गई तो उसने बताया- जेल प्रहरी दिनेश यादव और मनोज राजौरिया से उसने चरस मंगवाई थी। जेल प्रहरियों की तलाशी ली गई तो एक के पास से 7900 रुपए और दूसरे के पास से गांजे की पुड़ियां मिली। तत्काल दोनों को निलंबित किया गया। इसके बाद बहोड़ापुर थाना पुलिस को एफआइआर के लिए पत्र लिखा गया। अधीक्षक सरवैया ने बताया इन दोनों ने जूते में पैसे व गांजा छिपा रखा था।

दो दिन बाद भी एफआइआर नहीं: दो दिन बाद भी इस मामले में एफआइआर नहीं हुई है। मंगलवार को ही बहोड़ापुर थाना पुलिस को जेल प्रबंधन की ओर से पत्र लिख दिया गया था। लेकिन एफआइआर नहीं हुई। इस मामले में एनडीपीएस एक्ट के तहत एफआइआर दर्ज की जाएगी।

जेल में नशा और सामान हो रहा सप्लाई: जेल में नशे के सामान से लेकर मोबाइल और अन्य सामान सप्लाइ हो रहा है। जेल प्रबंधन इसे रोकने में नाकाम है। जेल में पहले मोबाइल, नशे का सामान मिल चुका है। कट्टन भी पकड़े जा चुके हैं।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close