Gwalior JEE Mains Result News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने बुधवार को जेईई मेन के चौथे सेशन का परिणाम घोषित किया। इसके साथ आल इंडिया रैंक भी जारी कर दी है। परिणाम में शहर के उज्जवल मोदी ने 173वीं रैंक प्राप्त कर 99.989 परसेंटाइल अपने नाम किए हैं। रैंक चार चरणों में हुए मेन के परिणाम को आधार बनाकर जारी की गई है। चौथे चरण की परीक्षा में शहर के 1100 विद्यार्थी शामिल हुए थे। इसमें सफलता पाने वाले अब तीन अक्टूबर को होने वाले एडवांस में शामिल हो सकेंगे। परिण्ााम के बाद जारी होने वाली रैंक से उन्हें देश में स्थित अलग-अलग संस्थानों में प्रवेश मिलेगा। गौर किया जाए तो प्रदेश में 151 इंजीनियरिंग संस्थान हैं, जिनमें 52 हजार सीटों पर एडवांस के बाद प्रवेश दिया जाएगा।

अपनी कमियों से सीखा-

उज्जवल मोदी ने बताया कि उन्होंने चारों चरण की परीक्षा दी थी। चौथे चरण में 99.989 परसेंटाइल हासिलकर अपने शहर को वे टाप कर पाए। वे तीन चरण में बेहतर स्कोर न कर पाए, इसलिए चौथे चरण में शामिल हुए। इस दौरान अपनी कमियों को दूर किया। वे देश के टाप पांच में से किसी एक आइआइटी संस्थान में प्रवेश ले कंप्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग करना चाहते हैं। तैयारी के दौरान पिता प्रोफेसर डा.सतीश मोदी और मां प्रीति मोदी ने उन्हें सपोर्ट किया।

स्कोर करने पर दिया ध्यान-

देवांश अग्रवाल बताते हैं अखिल भारतीय स्तर पर 177वीं रैंक प्राप्त की है। दूसरे चरण में उन्होंने यह सफलता अपने नाम की है। स्कोर करने के लिए उन्होंने हर दिन दस घंटे तैयारी की। हर दिन का शेड्यूल खुद ही बनाया। सात दिन में एक बार मॉक टेस्ट साल्व किए। गत वर्ष के प्रश्न पत्रों को भी हल किया। अब देवांश का फोकस पूरी तरह से जेईई एडवांस पर है, क्योंकि वे काबिल इंजीनियर बन देश्ा की सेवा करना चाहते हैं। तैयारी के दौरान विशेष सहयोग अभिभावकों ने किया। देवांश के पिता डा. गौरव अग्रवाल एवीबी ट्रिपल आइटीएम में प्रोफेसर हैं, जबकि ज्याति अग्रवाल हाउस वाइफ हैं।

दोस्तों ने दी हिम्मत

विश्वास मोर ने परिणाम में अखिल भारतीय स्तर पर 381वीं रैंक अपने नाम की है। विश्वास ने 99.973 परसेंटाइल प्राप्त किए हैं। उन्होंने अपनी स्ट्रेटजी शेयर करते हुए बताया कि कोरोना के कारण उन्होंने घर में ही तैयारी की। तैयारी करते-करते वे बोर हो जाते थे, लेकिन ऐसा नहीं है बोरियत से बाहर निकलने के लिए मनोरंजन का हिस्सा बन जाते थे। वे अपने दोस्तों के साथ वाट्सएग्रुप पर डिस्कश्ान करते थे। बीच-बीच में हंसी मजाक से उनका स्ट्रेस गायब होता था। विश्वास के पिता राजेश मोर व्यवसायी हैं और मां गरिमा मोर हाउस वाइफ।

फायनल के लिए चुना चौथा चरण

प्रणव जैन ने परिणाम में आल इंडिया स्तर पर 323वीं रैंक प्राप्त की है। यह रैंक उन्हें दूसरे चरण के परसेंटाइल के आधार पर यह उपलब्धि हासिल की है। अब उनका ध्यान पूरी तरह से जेईई एडवांस पर है, जिसके लिए उन्होंने प्लान तैयार कर लिया है। सफलता के लिए विशेषज्ञों के मार्गदर्शन में मॉक टेस्ट साल्व कर रहे हैं, साथ ही पूरे सिलेबस का रिवीजन शुरू कर दिया है। प्रणव के पिता पंकज व्यवसायी और मां ज्योंति हाउस वाइफ हैं।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local