-एसएसपी के निर्देश पर क्राइम ब्रांच की टीम ने मारा छापा

-कमरा नंबर चार में छापेमारी में पकड़े गए,खुद सदस्य भी खेलता मिला

Gwalior Jivaji Club gambling Center: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। जीवाजी राव सिंधिया के नाम पर 100 साल से ज्यादा पुराने सबसे प्रतिष्ठित क्लब में जुए का ठिकाना चलता मिला। शहर के बड़े लोगों की सदस्यता वाले इस क्लब परिसर के कमरा नंबर चार में पूरी प्लानिंग के साथ जुआ खिलवाया जाता था जिसमें मंगलवार को भंडाफोड़ हो गया। खुद क्लब का सदस्य व कारोबारी ही फिलहाल इसका कर्ताधर्ता निकला है जिसपर गेस्ट हाउस का जिम्मा था और चार हजार रूपए प्रति कमरा चलवाया जाता था। एसएसपी अमित सांघी को लगातार मिल रही सूचनाओं के बाद क्राइम ब्रांच की टीम को रेड करने भेजा गया जहां सदस्य सहित 11 लोग जुआ खेलते पकड़ लिए गए। इनके पास से तीन लाख 30 हजार रूपए बरामद हुए। क्लब में पुलिस रेड व जुआ पकड़े जाने की खबर के बाद क्लब सदस्यों व कारोबारियों में हड़कंप मच गया। झांसी रोड थाना पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर आरोपितों को जमानत पर छोड़ दिया।

गेस्ट हाउस का जिम्मा तो जुए का अडडे बना दिया, खुद की अाइडी से बुकिंग

हैरानी की बात है कि इतने बड़े क्लब के गेस्ट हाउस का जिम्मा जिस सदस्य राकेश गुप्ता पर था उसने ही इसका सबसे बड़ा फायदा उठाया। चार चार हजार रूपए में क्लब के कमरे को किराए पर देकर जुआ खिलवाना शुरू कर दिया। क्लब बड़ा ब्रांड है इसलिए कोई शक भी नहीं करेगा। बताया गया है कि राकेश ने खुद की आइडी से कमरा बुक किया। इस मामले में क्राइम ब्रांच के डीएसपी ऋषिकेष मीणा, टीआइ दामोदर गुप्ता और उनकी टीम को लगाया। जिस समय कमरा नंबर-4 में जुआ खेला जा रहा था, उसी समय दबिश दी। यहां से 11 जुआरियों को पकड़ा। इनका कर्ताधर्ता राकेश कुमार गुप्ता पुत्र स्व.बाबूलाल गुप्ता उम्र 65 वर्ष निवासी चितेरा ओली माधोगंज निकला, वह करीब दस साल से जीवाजी क्लब का सदस्य है और उसका भाई भाजपा से जुड़ा है। राकेश का माधोगंजमें कपड़े का शोरूम भी है। उसका एजेंट संदीप है, जो 4 हजार रुपए में कमरा बुक करता था, जबकि कमलेश जटारिया एलआइसी एजेंट है जो यहां जुआ खेलने के लिए लोगों को इकठ्ठा कर लाता था।

सदस्य के लिए 1500 शुल्क, यहां 4000 वसूली

क्लब के सदस्य के लिए कमरे का शुल्क 1500 रूपए है,जबकि राकेश गुप्ता द्वारा जो कमरे बुक कराकर जुआ खिलाया जाता था उसमें चार हजार रूपए वसूले जा रहे थे। कमरों में आने जाने के लिए क्लब के अंदर से नहीं गुजरना होता है इसलिए यह पता ही नहीं चलता कि कौन आ-जा रहा है। जुए के लिए यही सबसे आसान राह बन गई।

यह लोग जुआ खेलते हुए पकड़े गए:

राकेश कुमार गुप्ता पुत्र स्व.बाबूलाल गुप्ता, चितेरा ओली, माधोगंज

मनोज पुत्र राजेंद्र राजपूत निवासी तेल मिल, के पास काल्पी ब्रिज कालोनी

अवधेश पुत्र मुन्नालाल बघेल निवासी पुरानी छावनी

पान सिंह पुत्र टीकाराम कुशवाह निवासी सिकंदर कंपू

ध्रुव राठौर पुत्र सियाराम राठौर निवासी जागृति नगर, जनकगंज

हेमंत कुशवाह पुत्र गंगाराम कुशवाह निवासी हेमसिंह की परेड माधोगंज

सुनील सिंह पुत्र कमल सिंह निवासी गुढ़ा-गुढ़ी का नामा

दिलीप पुत्र स्व.देवीसिंह कुशवाह निवासी सिकंदर कंपू

बृजेश पुत्र बादाम रजक निवासी काेटेश्वर कालोनी, घासमंडी

राजेंद्र पुत्र पातीराम माहौर निवासी लक्कड़खाना

बलवंत पुत्र कालू कुर्मी निवासी घासमंडी, किलागेट

कथन

जीवाजी क्लब में जुआ खेले जाने की सूचना मिली थी जिसके बाद क्राइम ब्रांच की टीम ने दबिश दी और 11 लोगों को जुआ खेलते हुए पकड़ा गया है।

अमित सांघी, एसएसपी

क्लब के कमरे में जुआ पकड़े जाने की घटना पता चली। यह गंभीर मामला है। सदस्य की आइडी पर कमरा बुक होता है, हम इस मामले को दिखवा रहे हैं,जल्द बोर्ड बैठक में जुआ खिलवाने वाले सदस्य का निष्कासन किया जाएगा।

तरूण गोयल,सचिव, जीवाजी क्लब

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close