Gwalior JU News: ग्वालियर.(नईदुनिया प्रतिनिधि)। जीवाजी विश्वविद्यालय में रोजाना सैकड़ों विद्यार्थी अपनी मार्कशीट और रिजल्ट से संबंधित कामों के लिए चक्कर काटते हैं या यूं कहें कि धक्के खाते हैं। वहीं जब यह विद्यार्थी चक्कर काट काट के थक जाते हैं तब अपनी शिकायत दर्ज कराते हैं ।जीवाजी विश्वविद्यालय में शिकायत दर्ज कराने के लिए छात्र सहायता केंद्र से फॉर्म लेकर टोकन जमा करना होता है ।इस पर छात्रों का आरोप है कि टोकन जमा करने के बावजूद भी कोई वांछित कार्यवाही नहीं होती है या उसमें भी छात्रों को चक्कर काटने पड़ते हैं । इसलिए परेशान होकर छात्र ने सीएम हेल्पलाइन का सहारा लेना शुरू कर दिया है।जीवाजी विश्वविद्यालय में इन दिनों महीने की लगभग 470 से लेकर 500 प्राथमिक शिकायतें सीएम हेल्पलाइन द्वारा दर्ज की जा रही है लेकिन चिंता की बात है कि सीएम हेल्पलाइन की शिकायतों का समाधान करने में भी विश्वविद्यालय अधिक समय लगा रहा है । यह 400-500 लाे सिर्फ वह आंकडा है जो शिकायतें प्राथमित स्तर (एल-1) पर दर्ज होती है । इसके अलावा तीन और स्तर हैं , यानि कुल मिला कर एल-1 से एल-4 स्तर तक सीएम हेल्पलाइन की शिकायतें दर्ज होती है। कुल मिला कर लगभग 6000 शिकायतें प्रतिमाह सीएम हेल्पलाइन पर सक्रिय रहती हैं। इसमें सबसे अधिक मामले मार्कशीट से संबंधित होते है। वहीं कुछ मामले ऐसे भी आते हैं जिनमें छात्र के नंबर कालेज और विश्वविद्यालय के बीच में ही घूमते रह जाते हैं।

जब उसका कारण पूछने के लिए नईदुनिया ने संबंधित अधिकारियों से बात करना चाही तो वह आनाकानी करने लगे कई बार पूछने पर उन्होंने बताया की शिकायत आने के बाद विभागों में आपसी सामंजस ठीक तरह से नहीं बैठ पाता है, जिसके कारण से सीएम हेल्पलाइन की शिकायत का निराकरण देरी से हो पाता है।

--प्रेक्टिकल के नंबर अटके-

मेरी स्नातक डिग्री के अंतिम सेमिस्टर के प्रेक्टिकल के नंबर रिजेल्ट के समय नहीं अाए थे , कालेज में पता किया तो वहां से कहा कि यूनिवर्सिटी संपर्क करो । यहां आया तो काेई सही जानाकरी दे ही नहीं रहा है । परेशान होकर फिर सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत की है ।

- राशिद , शिवम कालेज, मुरैना

-- डुप्लीकेट मार्कशीट के लिए परेशान रहा -

मेरी मार्कशीट कहीं खो गई थी जिसके बाद मैने विश्वविद्यालय में आकर डुप्लीकेट मार्कशीट के लिए आवेदन दिया । काफी दिन बीत जाने पर भी जब मेरी मार्कशीट नहीं मिली तो फिर मैने 10 दिन पहले इसकी शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर दी है ।

- दिनेश , एसएलपी कालेज, ग्वालियर

वर्जन-

हम तेजी से सभी शिकायतों का निराकरण कर रहे है। लेकिन इन शिकायतों की संख्या कम करने के लिए कुछ परिवर्तन करने होंगे । जिसमें सबसे अहम परिवर्तन विश्वविद्यालय से जारी होने वाला रिजल्ट और विद्यार्थियों की मार्कशीट को समय के साथ उपलब्ध करवाने पर होगा । क्योंकि इन में देरी होने से ही सबसे अधिक शिकायतें सीएम हेल्पलाइन पर दर्ज कराई जाती हैं ।

-डीके वर्मा, प्रभारी अधिकारी , सीएम हेल्पलाइन एल-1

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close