Gwalior Lockdown News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमिताें का आंकड़ा प्रतिदिन पांच सैकड़ा को पार कर रहा है। संक्रमण से लोगों की मौत हो रही हैं। इसके बाद भी 60 घंटे का लाकडाउन समाप्त होने के बाद सोमवार को हजारों की संख्या में लोग बाजाराें में खरीदारी करने निकल आए। इस दाैरान जिला प्रशासन की व्यवस्थाएं चंद मिनटों में चरमरा गईं। बाजारों में न तो दो गज की दूरी की गाइडलाइन का पालन हो रहा था न ही लोगों के चेहरे पर मास्क नजर आ रहे थे। महाराज बाड़ा, दौलतगंज, सराफा बाजार, दाल बाजार व जयेंद्रगंज सहित शहर के प्रमुख मार्ग भी जाम हो गए। बाजारों में भीड़ उमड़ने से जिला प्रशासन व पुलिस अधिकारी लाचार व बेबस नजर आए। हालत यही रहे तो शहर में कोरोना कर्फ्यू लगाने के अलावा जिला प्रशासन के पास कोई विकल्प नहीं बचेगा।

शाम 4:13 बजे: दाल बाजार जामः दाल बाजार में शाम के समय पैर रखने तक के लिए जगह नजर नहीं आ रही थी। सड़क के दोनों तरफ वाहनों की कतार थी। चारों तरफ लोगों के सिर ही सिर नजर आ रहे थे। किराने की दुकानों पर लोगों की भीड़ थी। कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां उड़ रही थीं। लोगों के चेहरे से मास्क भी उतरकर जेबों में पहुंच गए थे। हर दुकान पर भीड़ होने के कारण पुलिस के जवान भी गायब हो गए।

शाम 4:30 बजे: जयेंद्रगंजः जयेंद्रगंज में भी जाम की स्थिति थी। दोपहर तीन बजे से महल गेट से लेकर ऊंट पुल तक जाम लगना शुरू हो गया था। बच्चे व बुजुर्ग जाम में फंसे नजर आए। महल गेट पर सूबेदार कुछ जवानों के साथ जरूर खड़े थे। घोड़े से लेकर ऊंट पुल तक पुलिस का कोई जवान नजर नहीं आ रहा था। जाम की स्थिति रात नौ बजे तक रही।

शाम 4:42 बजे : दौलतगंजः चारों तरफ से रोड जाम होने के कारण रांग साइड भी ट्रैफिक निकलना शुरू हो गया। जिस कारण दौलतगंज भी जाम हो गया। दौलतगंज के जाम का असर हुजरात रोड, नया बाजार व राक्सी पुल पर भी पड़ा। दौलतगंज से निकलने में लोगों को 20 से 30 मिनट का समय लगा।

शाम 5:08 बजे : महाराज बाड़ाः सबसे अधिक हालात महाराज बाड़े के खराब थे। चारों तरफ लोगों के सिर ही सिर नजर आ रहे थे। नजरबाग मार्केट, सुभाष मार्केट, टोपी बाजार, टाउन हाल के सामने, पोस्ट आफिस के सामने, दहीमंडी व माधवगंज में भीड़ काफी थी। हालत इतने खराब थे कि लोग एक दूसरे के धक्के से आगे बढ़ रहे थे। लोग खरीदारी करने के लिए टूटे पड़े थे। दो गज की दूरी तो छोड़ो लोगों के चेहरे पर मास्क तक नजर नहीं आ रहे थे। बेबस पुलिस लोगों को उनके हाल पर छोड़कर गायब हो गई। मास्क नहीं होने पर चालान करने वाले भी सड़क पर नजर नहीं आ रहे थे।

शाम 5:18 बजे : सराफा बाजारः महाराज बाड़ा, दौलतगंज, हेमू कालानी गोलंबर, गांधी मार्केट के दोनों तरफ की रोड जाम होने के कारण सराफा बाजार भी जाम था। ज्वैलर्स की दुकानों में ग्राहकों की कुर्सियां फुल नजर आ रही थीं। लोग इन कुर्सियों के पीछे भी खड़े थे। पिछले बुधवार को भीड़ देखकर मोती तबेला की दुकानें सील करने वाले अधिकारी भी नजर भी नहीं आ रहे थे। जिला प्रशासन के स्पष्ट आदेश हैं कि दुकान में भीड़ जमा करने पर सात दिन के लिए सील कर दी जाएंगी। इस आदेश का पालन कराने वाले जिम्मेदारी अधिकारी भी गायब थे। सराफा बाजार से निकलने में लोगों को 25 से 35 मिनट का समय लग रहा था।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags