- औसत से 14.8 मिमी पीछे, एक झमाझम हो जाएगा औसत का कोटा पूरा

ग्वालियर। (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में बुधवार को दिनभर बादल छाए रहे, लेकिन नमी कम होने की वजह से वर्षा नहीं हो सकी। शाम को आसमान साफ हो गया। तेज धूप निकलने की वजह से उमस का सामना करना पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल खाड़ी का कम दवाब का क्षेत्र प्रदेश के मध्य भाग में पहुंचेगा, तब ग्वालियर-चंबल संभाग में आना शुरू हो जाएगी। 12 अगस्त को अच्छी वर्षा की संभावना बनेगी। 13 अगस्त को बंगाल की खाड़ी में नया कम दवाब का क्षेत्र विसकित हो रहा है। इस सिस्टम का रूट झारखंड व उत्तर प्रदेश होते हुए है। जिसके चलते 14 व 15 अगस्त को ग्वालियर में तेज वर्षा की संभावना बनेगी।

मानसून सीजन के 71 दिन बीत गए हैं। इन 71 दिनों में मानसून के सिस्मट की वर्षा नहीं हुई है। मानसून ट्रफ लाइन व स्थानीय प्रभाव से ही बादल वर्षा कर रहे हैं। इस कारण औसत से पीछे चल रहे हैं। औसत से शहर 14.8 मिमी पीछे है। औसत से आगे निकलने के लिए एक अच्छी वर्षा की जरूरत है। इसकी संभावना 12 से 15 अगस्त के बीच है। इन चार दिनों में जो वर्षा होगी, उसकी वजह से ग्वालियर औसत से ऊपर हो जाएगा। जबकि जिले की वर्षा औसत से अधिक है।

यह सिस्टम सक्रिय, नमी नहीं आ रही

- बंगाल की खाड़ी का अति कम दवाब का क्षेत्र छत्तीसगढ़ को पार करते हुए पूर्वी मध्य प्रदेश में सक्रिय हो रहा है। इस कम दवाब के क्षेत्र ने मानसून ट्रफ लाइन अपनी ओर खींच लिया है, जिसके चलते नर्मादापुरम संभाग, मालवा, भोपाल, छिंदवाड़ा, जबलपुर संभाग में ज्यादा असर है। ग्वालियर की दूरी काफी अधिक है।

- हवा का रुख पूर्वी है, लेकिन यह हवा अपने साथ नमी लेकर नहीं आ रही है।

- यह सिस्टम प्रदेश के मध्य भाग से होते हुए पश्चिमी मध्य प्रदेश में प्रवेश करेगा, तब नमी बढ़ेगी। 12 अगस्त को संभावना बनेगी।

- इस सिस्टम के गुजर जाने के बाद नया सिस्टम आगे बढ़ना शुरू हो जाएगा, जिसकी वजह से मानसून ट्रफ लाइन अपनी सामान्य स्थिति में आएगी।

अधिकमत तापमान-33.8 डिसे

न्यूनतम तापमान-26.5 डिसे

कुल वर्षा-391.4 मिमी

पूर्वी हवा की गति-6 किमी प्रतिघंटा

पारे की चाल

समय तापमान

05:30 27.4

08:30 28.8

11:30 32.6

14:30 33.2

17:30 31.8

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close