ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। महापौर डा. शोभा सिकरवार ने सोमवार से नगर निगम में सक्रिय होना शुरू कर दिया। उन्होंने आगामी त्योहार मोहर्रम और जन्माष्टमी को देखते हुए गोपाल मंदिर व सागर ताल का निरीक्षण किया। गोपाल मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद महापौर ने कहा कि गोपाल मंदिर ऐतिहासिक होने के साथ ही शहर के आकर्षण का केंद्र है। ऐसे में त्योहार के दृष्टिगत रात के समय मंदिर पर खूबसूरत लाइटिंग की जाए। इसके बाद महापौर ने सागर ताल का निरीक्षण किया। यहां शहरभर से ताजिए पहुंचते हैं। ऐसे में उन्होंने कहा कि ताल में साफ-सफाई कराने के निर्देश दिए। इससे पहले महापौर शोभा सिकरवार दोपहर ढाई बजे जलविहार स्थित कार्यालय पहुंची। यहां उन्होंने कार्यालय में उपस्थित स्टाफ से परिचय किया और काम-काज को समझा।

संक्रामक बीमारियां रोकने निगम ने कराई फागिंग

शहर में संक्रामक बीमारियों एवं मच्छरों की रोकथाम के लिए नगर निगम ने सोमवार को कई क्षेत्रों में फागिंग एवं कीटनाशक दवाओं का छिड़काव कराया। सोमवार को पत्तल वाली गली, मस्जिद वाली गली, इंदरगंज चैराहा, नेहरू नगर, समाधिया कालोनी, न्यू नरसिंह नगर, शिव विहार, चौड़े के हनुमान, हजीरा क्षेत्र की विभिन्न गलियां, मुरार बारादरी, थाटीपुर, दीनदयाल नगर फागिंग व दवा का छिड़काव किया गया।

कम गेहूं की शिकायतें बढ़ीं, इधर अमृत महोत्सव के लिए चुना ग्वालियर

प्रदेश में इस बार गेहूं कम कर चावल बढ़ाकर दिया जा रहा है। सात किलो गेहूं की बजाय सिर्फ दो किलो गेहूं और चावल दिए जा रहे हैं। अधिकतर दुकानों पर लोग शिकायत कर रहे हैं क्योंकि गेहूं मुख्य अनाज है। दुकानदारों का एक ही जवाब होता है कि इस बार गेहूं कम आया है। वहीं आजादी के अमृत महोत्सव के तहत ग्वालियर को चुना गया है, जिसके तहत 17 अगस्त को विभाग की ओर से कार्यक्रम का आयोजन होना है। खाद्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान में राशन की दुकानों पर हितग्राहियों को सात किलो चावल, दो किलो गेहूं और एक किलो ज्वार दिया जा रहा है। पिछले माह से यही स्थिति है। गेहूं की जगह चावल का वितरण किया जा रहा है। लेकिन लोगों को इस कारण परेशानी हो रही है। जिले में इस समय दो लाख 39 हजार परिवारों को राशन देने का दावा किया जा रहा है।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close