Gwalior Mela 2023: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। नईदुनिया प्रतिनिधि ग्वालियर व्यापार मेला में बाहर से आने वाले व्यापारियों को पक्की दुकानें नहीं मिल पा रही है। नए व्यापारियों केा कच्ची दुकान उपलब्ध कराई जा रही है। क्योंकि मेला प्राधिकरण पक्की दुकानों को एडवांस में बुक कर देता है। जिससे पक्की दुकानों पर व्यापारियों का वर्षों से कब्जा चला आ रहा है। हालात यह है कि कई व्यापारी तो ऐसे है जिनका 20-20 दुकानों पर कब्जा है। जो खुद दुकान या शोरुम न लगाकर किराए से दुकान उठा देते हैं। जिससे वह खुद मुनाफा उठाते हैं। पर प्राधिकरण को चंद रुपये ही मिल पाते हैं। इससे जहां प्राधिकरण को आर्थिक नुकसान हो रहा है तो वही बाहर से आने वाले नए व्यापारी को व्यापार के लिए उचित स्थान नहीं मिल पाता है या फिर उन्हें चौगुने दाम पर दुकान किराए से लेनी पड़ती है। यह पूरा खेल मेला प्राधिकरण के अफसरों की सांठगांठ से संचालित होता है।

आटो मोबाइल सेक्टर में अभी एक भी दुकान सजती हुई दिखाई नहीं दे रही है। आटाेमोबाइल सेक्टर में आने वाले व्यापारियों को मेला छूट का इंतजार है। जब तक मेला छूट की घोषणा शासन स्तर से नहीं हो जाती तबतक आटो मोबाइल सैक्टर नहीं सजेगा। जिसको लेकर मेला व्यापारी संघ के अध्यक्ष महेन्द्र भदकारिया ने बताया कि परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत के नगर आगमन पर भेंट कर उन्हें ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन के माध्यम से मेला छूट 25 दिसंबर से 22 फरवरी तक रखने की मांग की है। इसके साथ ही दुकान व सड़क की मरम्मत और बाउंड्रीवाल के निर्माण की मांग की है। जिस परिवहन मंत्री ने पूर्ण अश्वसत किया है। इस मौके पर उमेश उप्पल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं प्रवक्ता अनिल पुनियानी, आटोमोबाइल सेक्टर के हरीकांत समाधिया, श्याम गुप्ता, मुकेश अग्रवाल, कुलजिंदर सिंह, भरत नागपाल, अभिजीत अत्रे, उमेश गुप्ता, मेला व्यापारी संघ के कल्ली पण्डित, बब्बन सेंगर, अनुज सिंह आदि मौजूद रहे।

ग्वालियर व्यापार मेला आकार लेने लगा है। दो साल बाद लगने जा रहे मेला में दुकानों का निर्माण शुरू हो चुका है। दुकानदारों में इस बार काफी उत्साह भी देखा जा रहा है। इसलिए वह दुकानों को मेला से पहले सजाने के लिए उत्साहित है। अब इंतजार है तेा केवल आरटीओ छूट का। जिसके मिलने के बाद आटो मोबाइल सेक्टर भी सजने लगेगा। फिलहाल में मेला में झूला, इलेक्ट्रोनिक सेक्टर सजता दिख रहा है। इधर हरिद्धार वाले का रेस्टोरेंट सजने लगा है जाे 14 दिसंबर से आमजन के लिए खोल दिया जाएगा।इधर मेला व्यापारी संघ ने परिवहन मंत्री को मेला छूट देने के लिए ज्ञापन सौंपकर मांग की है। जिससे मेला का शुभारंभ समय पर हो सके। हालांकि मेला सचिव के अवकाश पर जाने के बाद टेंडर प्रक्रिया पूरी तरह से रुक चुकी है और क्षतिग्रस्त दुकानों की मरम्मत आदि का काम भी शुरू नहीं हो सका। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि मेला का शुभारंभ में देरी हो सकती है। मेला में बाल रेल इस बार भी नहीं आने वाली । रेलवे बाल रेल काे चलाने में दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है। जबकि इस बार मेला प्राधिकरण ने रेलवे को पत्र लिखकर बाल रेल के संचालन की मांग की थी। लेकिन रेलवे द्वारा मेला प्राधिकरण की मांग पर ध्यान तक नहीं दिया। जिस पर मेला प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना था कि इस बार बाल रेल नहीं आई तो इसे किसी होटल संचालक को किराए से दे दिया जाएगा।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close