ग्वालियर,(नईदुनिया प्रतिनिधि)। आगामी एक अक्टूबर से स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 की कवायद शुरू हो रही है। इसके अलावा पिछले सर्वेक्षण का परिणाम आना भी अपेक्षित है। इसको देखते हुए शहर में स्वच्छता को लेकर निगम अमले को सक्रिय किया जा रहा है। सोमवार की सुबह नगर निगम आयुक्त किशोर कान्याल ने शहर में सफाई को लेकर औचक निरीक्षण किया। इस दौरान महाराज बाड़ा के मुख्य बाजारों, राजमाता चौराहा सहित अन्य मुख्य मार्गों पर गंदगी के ढेर नजर आए। इस पर निगमायुक्त ने नाराजगी जताते हुए प्रतिदिन साफ-सफाई करने के निर्देश दिए। कई जगहों पर सफाई कर्मचारी अनुपस्थित मिलने पर नोटिस जारी करने के लिए भी कहा है। इसके बाद दोपहर में निगमायुक्त ने बाल भवन के सभागार में अधीनस्थ अमले की क्लास ली।

इस दौरान निगमायुक्त ने कहा कि शहर को साफ व स्वच्छ रखने की जिम्मेदारी हम सभी की है और सभी को अपना कार्य पूरी ईमानदारी के साथ करना है। ऐसे में जरूरी है कि लोगों को सफाई के प्रति जागरुक करें। समझाने के बाद भी जो न माने, उसके खिलाफ तत्काल जुर्माने की कार्रवाई करें। इसके अलावा उन्होंने काम से गायब रहने वाले कर्मचारियों के मामले में कहा कि प्रतिदिन सभी संबंधित अधिकारी अपने क्षेत्र में भ्रमण कर सफाई व्यवस्था देखें और पूरा ध्यान काम पर लगाएं। इस दौरान अपर आयुक्त अतेंद्र सिंह गुर्जर, उपायुक्त अमर सत्य गुप्ता, अतिबल सिंह यादव, मुख्य स्वच्छता अधिकारी डा. वैभव श्रीवास्तव, सभी कचरा स्टेशन प्रभारी, जेडओ, स्वास्थ्य अधिकारी, डब्ल्यूएचओ, सुपरवाइजर्स एवं अन्य संबंधित कर्मचारी उपस्थित रहे।

सभापति ने की हेल्पलाइन की समीक्षा, 60 प्रतिशत शिकायतों का हुआ निराकरणः नगर निगम के सभापति मनोज सिंह तोमर ने सोमवार को सभापति हेल्पलाइन में आने वाली शिकायतों व उनके निराकरण की समीक्षा की। जलविहार स्थित परिषद कार्यालय में हुई समीक्षा बैठक में मुख्य रूप से सीवर लाइन और पेयजल से जुड़ी समस्याएं शामिल थीं। समीक्षा के दौरान संबंधित अधिकारियों ने बताया कि अभी तक सभापति हेल्पलाइन में 206 शिकायतें प्राप्त हुई हैं। उनमें सीवर और पानी से संबंधित 60 प्रतिशत शिकायतों का निराकरण संतुष्टिपूर्ण तरीके से हो गया है। सभापति ने निर्देश दिए कि शेष शिकायतों का निराकरण भी समय-सीमा में किया जाए। शहर के नागरिक विश्वास के साथ शासन और प्रशासन तक शिकायतें पहुंचाते हैं और उसी विश्वास को कायम करते हुए उनका त्वरित निराकरण होना भी जरूरी है। इस दौरान अपर आयुक्त मुकुल गुप्ता, पीएचई के अधीक्षण यंत्री आरएलएस मौर्य, कार्यपालन यंत्री संजय सोलंकी, आरके शुक्ला सहित सीवर एवं पीएचई के सभी सहायक यंत्री उपस्थित रहे।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close