ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। नगर निगम के सफाई बेडे में जल्द ही 66 इलेक्ट्रिक वाहन जुड़ने जा रहे हैं, इसके लिए नगर निगम ने टेण्डर भी जारी कर दिए हैं। इन वाहनों के जुड़ जाने से सबसे अधिक लाभ पुराने ग्वालियर को होगा जहां पर छोटी छोटी गलियां हैं। वहीं दूसरी ओर नगर निगम का विद्युत विभाग जल्द ही चार्जिंग स्टेशन लगवाने वाला है। इन स्टेशनों के जुड़ जाने से इन वाहनों के चार्ज करने की समस्या भी समाप्त हो जाएगी। एक वाहन एक बार में 40 से 50 किलोमीटर के क्षेत्र में सफाई कर सकेगा। प्रत्येक वार्ड को एक इलेक्ट्रिक वाहन दिया जाएगा। जो कि प्रथम फेज में ट्रायल के लिए है। ट्रायल सफल रहा हो जल्द ही पूरे ग्वालियर की सफाई व्यवस्था यह इलेक्ट्रिक वाहन ही संभालेंगे। इससे निगम को करोड़ों रुपये के डीजल का लाभ होगा।

वर्तमान में नगर निगम की सफाई व्यवस्था डीजल वाहनाें के भरोसे है। अभी निगम के पास नगर निगम में 190 टिपर वाहन है। यह वाहन सफाई कार्य में जुटे हुए हैं जबकि 10 वाहन और आने वाले हैं। वहीं निगमायुक्त ने 100 अतिरिक्त वाहनों को ठीक कर निगम के बेडे में शामिल करने के निर्देश दिए हैं। इन वाहनों के आ जाने से निगम के पास 300 टिपर वाहन हो जाएंगे।

ड्राइवरों की समस्या से मिलेगी निजात

नगर निगम के पास इस समय 190 टिपर वाहन हैं, जबकि ड्राइवराें की संख्या करीब 230 के लगभग है। निगमायुक्त का आदेश है कि एक ड्राइवर से एक ही शिफ्ट में काम लिया जाएगा। इसके कारण सुबह लगभग 190 ड्राइवर काम पर निकलते हैं तो शाम के लिए ड्राइवर नहीं मिल पाते हैं। लेकिन इलेक्ट्रिक तीन पहिया वाहनों के आ जाने से अब एक व्यक्ति ही सफाई व्यवस्था कर सकेगा। वह कचरे को एकत्रित करने के साथ ही उसे दबा भी सकेगा। फिलहाल अभी एक वाहन पर दो लोगों का स्टॉफ की आवश्यकता होती है। जिसमें एक ड्राइवर और दूसरा हेल्पर होता है। ड्राइवर वाहन को चलाता है, जबकि हेल्पर का काम कचराें के डिब्बें भर जाने पर उनमें जमा कचरे को दबाना हाेता है।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local