- निगमायुक्त ने किया निरीक्षण भरे मिले नाले

Gwalior Municipal Corporation News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। एक तेज बारिश शहर में बाढ़ की स्थिति निर्मित कर सकती है, क्योंकि शहर के अंदर जलनिकासी के लिए बनाए गए नाले पूरी तरह से गंदगी से भरे पड़े हैं। हालात इतने खराब हैं कि नालों में पूरी तरह से गाद भरी हुई है। कीचड़ के कारण नाले पूरी तरह से जाम हैं, लोगों ने इन नालों में बिल्डिंग मटेरियल तक डाल दिया है। इसके कारण लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम का नाला जाम हो चका है। वहीं नगर निगम आयुक्त ने शनिवार को रानीपुरा, नाका चंद्रवदनी व चेतकपुरी के सामने वाले नाले का निरीक्षण किया। साथ ही जल निकासी के लिए आवश्यक प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए।

श्ाहर में नालों की स्थिति पर एक नजर

लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम का नाला

लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम की ओर जाने वाले मार्ग से नाला निकलता है। इस नाले में संजय नगर, सब्जी मंडी, गोल पहाड़िया आदि का पानी बहकर आता है। इसके साथ ही पहाड़ों का पानी भी इसमें तेज प्रेशर के साथ आता है, लेकिन यह नाला लक्ष्मीगंज मुक्तिधाम वाले मार्ग पर टूटा होने के साथ कीचड़ से भरा हुआ है। वहीं लोगों ने इस नाले में बारिश के दौरान बिल्डिंग मटेरियल डालकर इसे बंद कर दिया है। इसके कारण यहां पर कभी भी हादसा हो सकता है। पूर्व में इसके ऊपर आरसीसी कर नाले को पाट दिया गया था, लेकिन इसकी छत लोगों ने तोड़ दी है। वहीं इसी जगह मोहल्ले के बच्चे भी खेलते रहते हैं। इसके कारण यहां पर हमेशा दुर्घटना होने की संभावना बनी रहती है। वहीं पूर्व में इसी नाले में बहकर एक बालक की मौत भी हो चुकी है।

सिटी सेंटर आरोग्य धाम के पास का नाला

सिटी सेंटर पर आरोग्यधाम अस्पताल के पास नाला बना हुआ है। यह नाला भी गंदगी से लबालब भरा हुआ है। बारिश से पूर्व नाले की सफाई नहीं कराई गई। नाले के जाम होने से बारिश के दौरान महलगांव क्षेत्र में पानी भर जाता है।

रानीपुरा नाला यहां बह रहा है सीवर

रानीपुरा से बहकर निकलने वाले नाले में सीवर की लाइन टूटी हुई है। इसके कारण यहां पर नाले में सीवर की गंदगी बहती है। तत्कालीन निगमायुक्त शिवम वर्मा ने इस सीवर लाइन को ठीक करने के निर्देश दिए थे, लेकिन यह कार्य आज तक शुरू नहीं हो पाया है।

यह निर्देश दिए निगमायुक्त ने

निगमायुक्त किशोर कान्याल ने शनिवार को रानीपुरा, नाका चंद्रवदनी व चेतकपुरी के सामने वाले नाले का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने नाले के पानी व ड्रोन वाटर की अलग-अलग निकासी के लिए वैकल्पिक उपायों पर चर्चा करते हुए संबंधित अधिकारियों को आवश्यक प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बारिश में शहर के किसी भी क्षेत्र में जलभराव की स्थिति ना बने और जहां भी आवश्यक हो तत्काल नालों की सफाई कराएं। नालों के मुहाने खोलने के लिए नियमित रूप से निगम का अमला अभियान चलाकर कार्रवाई करे। निरीक्षण के दौरान अधीक्षण यंत्री पीएचई आरएलएस मौर्य व मुख्य समन्वयक अधिकारी ग्वालियर पूर्व मौजूद थे।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local