ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर में आवारा श्वानों का आंतक बढ़ता जा रहा है। पिछले छह दिनों में श्वानों ने 124 लोगों को अपना शिकार बनाया है। यह सभी लोग श्वनों के काटने के बाद जिला अस्पताल एवं जयारोग्य चिकित्सालय में रैबीज के टीके लगवाने के लिए पहुंचे हैं। वहीं नगर निगम का मदाखलत अमला श्वानों को पकड़ने में लगातार ढील बरत रहा है।

शहर में श्वानों का आंतक बढ़ रहा है। श्वान हर दिन के 20 से 25 लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं। इतना ही नहीं ये मवेशियों के बछड़ों पर भी हमलाकर उन्हें घायल कर रहे हैं। गर्मी की अधिकता के कारण श्वान हिंसक हो गए हैं। इन्हें पकड़ने का जिम्मा नगर निगम का है, जो हाथ पर हाथ रखकर बैठा हुआ है। नगर निगम हर दिन 20 से 23 श्वानों को पकड़ने और लगभग 18 की नसबंदी करने का दावा करता है। उसके यह दावे बढ़ते मामलों की वजह से खोखले साबित हो रहे हैं। शहर की हर गली, मोहल्ले, कालोनी और सड़क पर आवारा श्वानों को आसानी से घूमते हुए देखा जा सकता है। जानकारी के अनुसार शहर में एक लाख से अधिक संख्या आवारा श्वानों की है।

सबसे ज्यादा परेशान पैदल व दो पहिया वाहन चालकः श्वान सबसे ज्यादा पैदल और दो पहिया वाहन चालकों को अपना शिकार बना रहे हैं। दिन के बजाय श्वान रात के समय अधिक हिंसक हो जाते हैं। वे मुख्य सड़क की ओट में घात लगाए बैठे रहते हैं, जब भी दो पहिया या फिर पैदल राहगीर निकलता है तो उस पर आक्रमण कर देते हैं। कुछ वाहन चालक अचानक हुए आक्रमण की वजह से हड़बड़ा जाते हैं गिरकर घायल हो जाते हैं।

श्वान के काटनें बाद लगवाया टीका

तिथि नए मरीज टोटल मरीज

13 मई 17 50

14 मई 26 66

19 मई 30 50

20 मई 15 55

21 मई 15 63

23 मई 21 76

वर्जन-

आवारा श्वानों को पकड़ने का कार्य लगातार जारी है। नसबंदी के बाद वापस इन श्वानों को छोड़ दिया जाता है। नसबंदी के असर कुछ सालों में दिखेगा। इनकी जनसंख्या अपने आप नियंत्रित होने लगेगी।

गौरव परिहार, जू क्यूरेटर, नगर निगम

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close