- अपराधियों को जिलाबदर करने की तैयारी

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पंचायत चुनाव के बाद पुलिस के लिए बड़ी चुनौती नगरीय निकाय चुनाव हैं। नगरीय निकाय चुनाव शहर में होना हैं, इसलिए सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम रखने होंगे। ऐसे में उन प्रत्याशियों के परिवार वाले, रिश्तेदार या करीबी परेशानी बन सकते हैं, जो आपराधिक प्रवृत्ति के हैं।

पुलिस को आशंका है, यह लोग माहौल खराब कर सकते हैं, इसलिए ऐसे प्रत्याशी और उनके स्वजन व करीबियों को चिन्हित करना शुरू कर दिया गया है। पुलिस मतदान से पहले ऐसे अपराधियों को जिलाबदर कराने की तैयारी में है, जो सनसनीखेज अपराधों में शामिल रहे हैं और उनके घर से कोई चुनावी मैदान में है। ऐसे जो लोग अभी तक चिन्हित हुए हैं, उन्हें जिलाबदर करने के लिए पुलिस की ओर से प्रतिवेदन कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह को भेजा गया है। एसएसपी अमित सांघी ने बताया कि ऐसे जो लोग अभी तक चिन्हित हो गए हैं, उन्हें जिलाबदर करने के लिए प्रतिवेदन जा चुका है, कलेक्टर की ओर से ऐसे कुछ लोगों को नोटिस जारी हो गए हैं। जल्द ही यह लोग जिलाबदर हो सकते हैं। जिलाबदर के आदेश होते ही इनकी धरपकड़ शुरू कर दी जाएगी। पंचायत चुनाव संपन्न होने के बाद ऐसे और भी लोगों को चिन्हित किया जाएगा। सभी सर्किल के सीएसपी और थाना प्रभारियों को इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। ऐसे प्रत्याशियों पर भी निगाह है, जो आपराधिक प्रवृत्ति के हैं।

इन इलाकों से प्रत्याशियों के करीबी भी होंगे जिलाबदर

जिलालपुर, हजीरा और पुरानी छावनी से भी कुछ लोगों को चिन्हित किया है, जो प्रत्याशियों के करीबी हैं और आपराधिक छवि वाले हैं। इनके जिलाबदर के प्रतिवेदन अभी तैयार होने हैं।

ये हैं आपराधिक प्रवृत्ति के

1 छोटू तोमर: छोटू तोमर पर गोला का मंदिर सहित अन्य थानों में गोलीबारी, हत्या का प्रयास सहित अन्य सनसनीखेज मामले दर्ज हैं। जमीनों पर कब्जे की कई शिकायते हैं। इलाके में छोटू तोमर की दहशत है। छोटू के पिता बलवीर तोमर निकाय चुनाव में पार्षद प्रत्याशी हैं, वह कांग्रेस से चुनाव लड़ रहे हैं। सीएसपी ऋषिकेष मीणा ने बताया कि छोटू तोमर आदतन अपराधी है, वह चुनाव में माहौल खराब कर सकता है। इसलिए उसे जिलाबदर करने के लिए प्रस्ताव एसएसपी को भेजा। एसएसपी की ओर से प्रतविदेन कलेक्टर को भेज दिया गया है। छोटू तोमर को कलेक्ट्रेट से नोटिस जारी हो गया है, जल्द ही उस पर जिलाबदर की कार्रवाई हो सकती है।

2. धोनी सोलंकी: धोनी सोलंकी थाटीपुर इलाके का गुंडा है। उस पर कई अपराध दर्ज हैं। वह मारपीट, हत्या का प्रयास, लूट जैसे मामलों में शामिल रहा है। उसके पिता सुरेश सोलंकी पार्षद प्रत्याशी हैं, बसपा से उम्मीदवार हैं।

उसे जिलाबदर करने के लिए थाटीपुर पुलिस की ओर से प्रतिवेदन भेजा गया है। एसएसपी ने प्रतिवेदन पर हस्ताक्षर कर कलेक्टर को भेजा है। उसे भी नोटिस जारी हो गए हैं। ़प्रित्याशी: वार्ड-8 से कुख्यात गैंगस्टर परमाल तोमर के चाचा तारे तोमर ने निर्दलीय चुनाव लड़ने के लिए पर्चा दाखिल किया। उस पर हाल ही में इंदरगंज थाने में पंकज सिकरवार मर्डर केस में गवाह को धमकाने का केस दर्ज हुआ था। पंकज सिकरवार की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। इसमें परमाल और हत्या करने वाले बदमाशों के अलावा तारे भी शामिल था। इस मामले में तारे तोमर फरार चल रहा था। जैसे ही इंदरगंज पुलिस को उसके पर्चा भरने की भनक लगी तो पुलिस ने उसके घर दबिश दी, लेकिन वह घर से गायब मिला। पुलिस लगातार उसकी तलाश कर रही है।

3. मलखान लोधी : मलखान लोधी पुरानी छावनी के जलालपुर का रहने वाला है। वह भाजपा नेता प्रीतम लोधी का भतीजा है। कई अपराध मलखान पर दर्ज हैं। प्रीतम की पत्नी भाजपा से पार्षद का चुनाव लड़ रही है। सीएसपी रवि भदौरिया ने बताया कि मलखान लोधी चुनाव के दौरान माहौल बिगाड़ सकता है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close