ग्वालियर। Gwalior Murder In Gangwar : प्रॉपर्टी कारोबारी पंकज सिकरवार की गैंगवार में हुई हत्या के दूसरे दिन भी गदाईपुरा व उसके आसपास के क्षेत्र में दहशत का माहौल है। हत्या में नामजद गैंगस्टर परमाल सिंह तोमर, उसके भाई राघवेंद्र सिंह, रमन चौहान, संजय तोमर, भाईजी चौहान को पकड़ने 2 एएसपी के नेतृत्व में शहर के 70 चुनिंद अधिकारी व जवानों की टीम गठित की है। इसमें दो सीएसपी व चार टीआई शामिल हैं।

नामजद आरोपियों पर एसपी नवनीत भसीन ने 10 हजार का इनाम घोषित कर दिया है। पुलिस ने गैंगस्टरों से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े लोगों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस पार्टियां मुरैना व भिंड भेज दी गई हैं। मृतक के परिजनों की सुरक्षा के लिए एक दर्जन से अधिक जवानों को तैनात किया गया है।

गोपालनगर (हजीरा) निवासी पंकज पुत्र नरेश सिंह सिकरवार की यादव धर्मकांटे के पास वैष्णोपुरम में गैंगवार के चलते शॉर्प शूटरों ने ताबड़तोड़ गोलियां मारकर हत्या कर दी। केबल संचालन को लेकर पंकज सिकरवार के परिवार व गैंगस्टर परमाल तोमर, रमन सिंह चौहान से रंजिश शुरू हुई थी। इसके बाद अभिषेक तोमर की हत्या से दुश्मनी की लकीर और गहरी हो गई। गैंगवार के चलते पंकज की हत्या हुई है। यह बात पुलिस अधिकारी भी स्वीकार कर रहे हैं। लेकिन यह बात मृतक के परिजन मानने को तैयार नहीं है।

पंकज के भाई व भाजपा नेता संतोष सिकरवार का कहना है कि यह बात सही है कि परमाल सिंह तोमर हमसे रंजिश रखता है। अभिषेक तोमर हत्याकांड में पंकज सहित परिवार के सदस्यों को कुछ लोगों ने फंसाने का प्रयास किया। हमारा परिवार तो कारोबारी है। हम तो पुलिस से सुरक्षा भी मांग रहे थे, लेकिन सुरक्षा रमन चौहान को दी गई। जिस पर पहले से कई मामले दर्ज हैं।

परमाल भी बाइक पर साथी को बैठाकर भागा है

मृतक के भाई ओमकार सिंह की रिपोर्ट पर देर रात हजीरा थाना पुलिस ने परमाल पुत्र मुन्ना सिंह तोमर, उसके भाई रघवेंद्र सिंह तोमर निवासी चौड़े के हनुमान मंदिर के पास हजीरा, संजय पुत्र लाखन सिंह तोमर निवासी कांच मिल, रमन पुत्र राजेंद्र सिंह चौहान व उसके भाई भाईजी चौहान के खिलाफ धारा 307, 302, 341, 147,148, 149 व 120वीं के तहत प्रकरण दर्ज किया है।

परिजनों का दावा है कि पंकज पर गोलियां चलाने वाले युवक को परमाल अपनी बाइक पर बैठाकर भागा है। सीसीटीवी फुटेज में बाइक चलाने वाला युवक हेलमेट लगाए है, लेकिन परिजन उसकी परमाल के रूप में पहचान उसके टूटे हाथ से कर रहे हैं। इसके अलावा अनिल नाम के बदमाश की भी पहचान कर रहे हैं। सीसीटीवी फुटेज में एक युवक बगैर किसी बात के दौड़ते हुए गोदाम में घुसता नजर आ रहा है। यह युवक पहले से इस रोड पर घूम रहा था। परिजनों का दावा है कि यह संदिग्ध भी रेकी करने वालों में शामिल हो सकता है।

पापा का इंतजार कर रहे हैं बच्चे

गोपालनगर व वैष्णुपुरम में दूसरे दिन भी दहशत का माहौल है। गुरुवार होने के बाद भी पंकज की मौत पर संवेदनाएं व्यक्त करने भाजपा नेता सहित रिश्तेदार व नजदीकी लोग पहुंच रहे थे। पंकज के पिता नरेश सिंह गुमशुम बैठे थे। संतोष सिकरवार ने बताया कि रात को केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर व प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कॉल कर परिजनों से बात की है। घर की दहलीज पर बैठी पंकज की बड़ी व उससे छोटी बेटी के साथ बेटा सिर झुकाकर बैठा था। दोनों बच्चियों की आंखों से आंसू दूसरे दिन भी थमने का नाम नहीं ले रहे थे। ऐसा लग रहा था कि बच्चे अब भी पापा के आने का इंतजार कर रहे हैं। परिजनों का कहना है कि जब भी पंकज रात को घर आता था, वह बच्चों के लिए कुछ न कुछ लेकर आता था।

Posted By: Nai Dunia News Network