ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। उपचुनाव व त्योहारों पर मेल-जोल बढ़ने से कोरोना की दूसरी लहर जल्द आ सकती है। इसके संकेत भोपाल से मिले निर्देशों से मिल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग से मिले निर्देशों में कहा गया है कि स्वास्थ्य सेवाएं बढ़ाने की पूरी तैयारी रखें। इसके बाद ग्वालियर में भी तैयारियां तेज कर दी गई हैं।

जयारोग्य अस्पताल परिसर में स्थित सुपर स्पेशियलिटी को 200 बेड का आइसीयू बनाने के लिए डाक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ व संसाधनों की मांग की गई है। साथ ही जरूरत अनुसार बेड पर वेंटिलेटर भी बढ़ाए जाएंगे। साथ ही टीबी अस्पताल व पत्थर वाली बिल्िडग का कोविड अस्पताल के रूप में उपयोग किया जाएगा। कोरोना की दूसरी लहर के बारे में आशंका है कि भले ही 30 अक्टूबर तक एक्टिव केस कम बचें, लेकिन नवंबर व दिसंबर में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ेंगे। इसमें गंभीर मरीजों की संख्या अधिक हो सकती है।

भोपाल से मिले निर्देशों के बाद शनिवार को जीआर मेडिकल कॉलेज के डीन डा. एसएन अयंगर ने सभी विभागाध्यक्षों की बैठक ली है। इसमें नवंबर-दिसंबर की तैयारियों को लेकर आवश्यक संसाधनों की डिमांड मांगी गई। पत्थर वाली बिल्िडग सहित टीबी वार्ड में तैयार 400 ऑक्सीजन बेड को एचडीयू (हाई डिपेंडेंसी यूनिट) के रूप में उपयोग करने का निर्णय लिया गया है। मेडिसिन आइसीयू का रिनोवेशन का काम लगभग पूरा हो चुका है।

स्टाफ की डिमांडः एनएसथिसिया विभाग में नौ अतिरिक्त डाक्टर मांगे गए हैं। मेडिसिन विभाग में डाक्टर बढ़ाने के साथ पैरामेडिकल स्टाफ की भी डिमांड की गई है। 20-20 बेड के 10 आइसीयू सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में बनाने पर भी चर्चा हुई है। यहां एक समय में 20 एनएसथिसिया के डाक्टरों को रखा जा सकेगा। वर्तमान में 15 डाक्टर हैं, जो कम हैं, इसलिए डाक्टर बढ़ाने का प्रस्ताव भेजा गया है।

वर्तमान व्यवस्था और बढ़ेंगे संसाधन

- 178 बेड ऑक्सीजन युक्त सुपर स्पेशियलिटी में हैं।

- 74 बेड पर वेंटिलेटर अटैच भी हैं।

- 200 बेड का आइसीयू सुपर स्पेशियलिटी में तैयार किया जाएगा।

- 300 ऑक्सीजन बेड युक्त एचडीयू पत्थर वाली इमारत में बनेगा।

- 100 ऑक्सीजन बेड युक्त एचडीयू टीबी अस्पताल में भी तैयार होगा।

- 2 ऑक्सीजन टैंक आइनोक्स लगा चुका है, दो लगना बाकी हैं।

- 78 ऑक्सीजन बेड जिला अस्पताल में हैं।

- 4 बेड पर वेंटिलेटर अटैच हैं।

(नोटः जिला अस्पताल में आइसीयू का काम अभी अटका है।)

---------------------

विभाग द्वारा भोपाल से मिले निर्देश के बाद सुपर स्पेशियलिटी में 200 बेड का आइसीयू तैयार किया जा रहा है। इसमें आवश्यक संसाधनों की पूर्ति के लिए सभी विभागाध्यक्षों के साथ बैठक हो चुकी है, उनसे डिमांड ली गई है। नवंबर-दिसंबर में कोरोना मरीज बढ़ने की आशंका को देखते हुए तैयारियां की जा रही हैं।

डा. आरकेएस धाकड़, अधीक्षक जेएएच

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020