ग्वालियर। नई दुनिया प्रतिनिधि

कोरोना के आंकड़े क्या गिरे निजी अस्पताल मरीज के इलाज में मनमानी करने लगे। चुनाव की सरगर्मी में सरकारी मशीनरी भी अब कोरोना मरीजों के इलाज पर ध्यान नहीं दे रही। कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी मरीजों पर रेमडेसिवीर इंजेक्शन का प्रयोग किया जा रहा है। जिसका खामियाजा मरीजों को जान देकर उठाना पड़ रहा है। मानसरोवर केयर हॉस्पिटल में भर्ती 82वर्षीय महिला रेमडेसिवीर इंजेक्शन दिया। जब उसकी तबियत बिगड़ी और ऑक्सीजन लेवल 40 प्रतिशत पर आ गया तो आनन फानन में पर्चे पर रेफर टू हायर केयर लिखकर 16 अक्टूबर को सुपर स्पेशियलिटी पहुंचा दिया। जहां पर मरीज की गंभीर हालत को देखते हुए भर्ती कर लिया। लेकिन जब कोविड रिपोर्ट मांगी गई तो पता चला कि अस्पताल से एक रेपिड टेस्ट किट भेजी गई थी। जिसमें दो लाइन दिखाई दे रहीं थी और किट पर मरीज का नाम लिखा था, लेकिन यह टेस्ट कब लगाया गया इसकी जानकारी मानसरोवर केयर अस्पताल नहीं दे सका। 16 अक्टूबर के रैपिड टेस्ट जांच की सूची में महिला के नाम से एसआरएफ आइडी भी जनरेट नहीं दिखाई गई। जब मरीज के कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव की जानकारी सीएमएचओ कार्यालय उपलब्ध नहीं थी। इससे मामला संदिग्ध प्रतीत होता है कि मरीज पर रेमडेसिवीर इंजेक्शन तो लगाया पर उसकी रिपोर्ट कोविड पॉजिटिव है अथवा नहीं इसकी जानकारी परिजन से लेकर अस्पताल प्रबंधन नहीं दे सके। शनिवार को हॉस्पिटल रोड पर स्थित लोटस अस्पताल में भर्ती डीडी नगर के 61 वर्षीय नरेन्द्र सिंह सिकरवार की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होने पर भी रेमडेसिवीर इंजेक्शन दिया गया।

यह है गाइड लाइन-

कोविड गाइड लाइन के अनुसार कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद भी मरीज के स्वजन की रजामंदी पर रेमडेसिवीर इंजेक्शन दिया जा सकता है। यह एक ट्रायल ड्रग है जिसे कोरोना निगेटिव मरीज पर प्रयोग नहीं किया जा सकता।

रिपोर्ट निगेटिव सीटी स्कैन में लंग्स संक्रमण आने पर भी रेमडेसिवीर इंजेक्शन का प्रयोग मरीज पर नहीं किया जा सकता। हालांकि सीटी स्कैन में लंग्स संक्रमण वाले मरीज को कोविड मरीज के साथ एक ही वार्ड में रखकर कोविड का इलाज दिया जा सकता है।

वर्जन-

मैं भोपाल में हूं पेपर देखने के ही बाद बता सकता हूं कि कब कोरोना पॉजिटिव पाया गया था मरीज।

विकास यादव ,मानसरोवर हॉस्पिटल संचालक

मामला संदिग्ध है,क्योंकि मरीज कोविड पॉजिटिव आया तो उसकी सूचना मेरे कार्यालय में होना चाहिए जो नहीं है। सुपर स्पेशियलिटी से पता चला कि कोविड मरीज की मौत हुई है। मैं पूरे मामले की जांच करवाता हूं आखिर मामला क्या है।

डॉ मनीष शर्मा , सीएमएचओ

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020