• सुनिए वित्त मंत्री जी

ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि| कोरोना काल ने लोगों को, खासकर मध्यमवर्गीय परिवारो को यह अच्छी तरह समझा दिया है कि मूल आवश्यकताएं क्या होती हैं। कोरोना के कारण जब देशभर में लाकडाउन प्रभावी किया गया था, तब तमाम विलासताओं को त्याग कर लोगों का फोकस केवल खान-पान सामग्री की खरीदी पर रहा। धूम-धाम से शादियां न होने के कारण सोना-चांदी की बिक्री भी अपेक्षाकृत कम हुई, नताजी सराफा कारोबार की चमक फीकी पड़ गई। ऐसे में अब सराफा कारोबार को आगामी बजट से राहत की दरकार है। सराफा कारोबारियों का कहना है कि विदेशों से आने वाले सोना-चांदी पर कस्टम ड्यूटी 12 प्रतिशत लग रही है। सोने पर लग रही 3 फीसदी जीएसटी भी अधिक है। अगर इन दोनों करों में केंद्र सरकार कुछ कमी करती है, तो इसका फायदा सराफा कारोबारियों व आम जनता को मिलेगा। पूर्व में सोने पर केवल 1 फीसदी सेल्स टेक्स लगा करता था, वहीं कस्टम ड्यूटी भी 10 प्रतिशत लगती थी।

सराफा कारोबारियों का यह भी कहना है कि बहुत बड़ा तबका ऐसा है, जो 20 कैरिट का सोना ही खरीदना चाहता है। इसलिए 20 कैरिट सोने पर भी होलमार्क लागू किया जाना चाहिए। 20 कैरिट सोने को मध्यमवर्गीय परिवार अधिक खरीदते हैं, इसके जेवर जल्दी खराब नहीं होते। 20 कैरिट में 83.30 फीसदी शुद्ध सोना रहता है। वर्तमान में केवल 14 कैरिट, 18 कैरिट व 22 कैरिट सोने पर ही होलमार्क मान्य है। वहीं 2 लाख तक के जेवर बिना पेन कार्ड के खरीदे जा सकते हंै, इस राशि को बढ़ाने की मांग भी सराफा कारोबारियों की है।


-वर्तमान में कस्टम ड्यूटी 12 फीसदी लग रही है, पहले यह 10 फीसदी लगती थी। जीएसटी से पहले 1 फीसदी सेल्स टेक्स लगता था, अब 3 फीसदी जीएसटी लग रहा है। बजट में कर राहत मिल जाए, तो सराफा कारोबार के लिए बेहतर होगा।

गौरव गोयल, संचालक, बालाजी एंपोरियम टोपी बाजार


बिना पेनकार्ड के लोग 2 लाख तक की खरीदी कर सकते हैं, इसे बढ़ाया जाना चाहिए। सोना-चांदी को लोग अपने बुरे समय में भी इस्तेमाल करते हैं। कस्टम ड्यूटी अभी 12 फीसदी है, जिसे कम किया जाना चाहिए।

जवाहर जैन, अध्यक्ष, सराफा संघ ग्वालियर

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस