Gwalior News: मनीष शर्मा, ग्वालिर नईदुनिया। शहर में महापुरूषाें की प्रतिमाएं ताे लगभग हर चाैराहें पर लगा दी गई हैं, लेकिन इनकी देखरेख की काेई व्यवस्था नहीं है। हालत यह है कि केवल पुण्यतिथि एवं जयंती पर ही इनकी सफाई की जाती है। प्रतिमाओं की अनदेखी के कारण पूरे साल यहां गंदगी पसरी रहती है। नगर निगम के अधिकारी यहां फूल माला चढ़ाना ताे दूर सफाई करना तक जरूरी नहीं समझते हैं।

शहर के चौराहों एवं तिराहों पर नगर निगम द्वारा महापुरूषों की प्रतिमाएं लगाई गई हैं, जो निगम की देखरेख के अभाव एवं उदासीनता के चलते धूल की परतों से सराबोर हो रही है। इन प्रतिमाओं पर नियमानुसार राेजाना सफाई हाेना चाहिए एवं फूल मालाएं चढ़ाई जाना चाहिए। जबकि वर्तमान में इन प्रतिमाओं की निगम काे केवल पुण्यतिथि एवं जयंती पर ही याद आती है। लाेग भी यहां पर तब ही पहुंचते हैं। प्रतिमाएं स्थापित करवाने वाले भी साल भर याद नहीं करते हैं, न ही निगम इस तरफ ध्यान देता है। जिसके कारण प्रतिमा स्थल के आसपास ताे गंदगी रहती ही है साथ ही प्रतिमा पर भी धूल की परत चढ़ जाती है। केवल पुण्यतिथि एवं जयंती के एक दिन पहले जरूर निगम काे याद आती है। इसके चलते यहां पर सफाई एवं धुलाई करा दी जाती है। जिससे श्रद्धासुमन अर्पित करने वालाें काे प्रतिमा पर पुष्प माला चढ़ी हुई दिखाई देती है, साथ ही पूरा स्थान भी साफ सुथरा मिलता है। शहर के चाैराहाें एवं तिराहाें पर लगी सभी प्रतिमाओं की यही स्थिति है। जबकि निगम के पार्क विभाग के पास प्रतिमाओं की सफाई का जिम्मा है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local