ग्वालियर। नईदुनिया प्रतिनिधि। Gwalior News ट्रेनों में आग लगने की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए अब रेलवे ने कोच में ऑटोमैटिक फायर एंड स्मोक डिटेक्शन सिस्टम Automatic fire and smoke detection system लगाने का निर्णय लिया है। झांसी मंडल से संचालित होने वाली ट्रेनों के 45 एसी कोच में यह सिस्टम लगाया जाएगा। जिसमें बरौनी मेल, बुंदेलखंड एक्सप्रेस भी शामिल हैं।

विभिन्न ट्रेनों के 750 कोचों में इस सिस्टम का प्रयोग हो चुका

उल्‍लेखनीय है कि पहले चरण में विभिन्न ट्रेनों के 750 कोचों में इस सिस्टम का प्रयोग हो चुका है। पीआरओ मनोज कुमार सिंह ने बताया कि यह सिस्टम एक नियंत्रित वातावरण में कोच के अंदर नियमित रूप से अलग-अलग स्थानों का नमूना लेगा। उसकी जांच करने के बाद आग लगने के प्रारंभिक चरण में धुआं उठते ही यह अलार्म के माध्यम से सचेत करेगा।

समय रहते यात्रियों को कोच से निकाला जा सकेगा

उन्‍होंने बताया कि इससे समय रहते यात्रियों को कोच से निकालने के साथ ही गंभीर हादसा होने से रोका भी जा सकेगा।

धुआं होते ही सिस्‍टम में लगा सेंसर करेगा काम

पीआरओ मनोज कुमार सिंह के अनुसार इस सिस्टम में एक सेंसर लगा होगा, जो धुआं होते ही अपना काम करेगा। कोच में फायर इक्युपमेंट भी होगा, जिससे आग लगने पर तत्काल इसका उपयोग करके आग पर काबू पाया जा सकता है।

उन्‍होंने बताया कि अलार्म पैनल को ट्रेन के गार्ड कोच या अन्य कोच में स्थापित करने की व्यवस्था होगी। साथ ही 68 डिग्री तापमान होते ही सिस्टम स्वतः कार्य करने लगेगा। हालांकि प्रारंभिक तौर पर इसे एसी कोच में लगाया जा रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना