ग्वालियर। 16 लाख रुपए देकर शताब्दीपुरम में प्लॉट खरीदा। पर प्लॉट की जो रजिस्ट्री अशोक गृह निर्माण सहकारी समिति के बल्देव सिंह ने दी उसे जिसे दिसंबर 2015 में जीडीए ने निरस्त कर दिया। तब से लेकर अब तक अपने हक के लिए रिटायर्ड नेवी अफसर की पत्नी नीलम सिंह भदौरिया सिस्टम से लड़ रही हैं। वर्ष 2013 से 2019 के बीच 6 साल में वह 70 आवेदन दे चुकी हैं। पर अभी तक प्लॉट बेचने वालों पर मामला दर्ज नहीं हो सका है। मंगलवार को वह फिर पुलिस जनसुनवाई में एसपी ऑफिस पहुंची। एसपी नवनीत भसीन को शिकायती आवेदन दिया। फिर जांच का आश्वासन मिला। नीलम का कहना है कि 6 साल में क्या पुलिस जांच नहीं कर पाई।

महाराजपुरा शताब्दीपुरम निवासी नीलम भदौरिया पत्नी जितेन्द्र सिंह मंगलवार को पुलिस जनसुनवाई में पहुंची। नीलम के पति नेवी से रिटायर्ड अफसर हैं। उन्होंने बताया कि अशोक गृह निर्माण सहकारी समिति का कार्यालय दर्पण कॉलोनी में है। उन्होंने समिति के प्रोजेक्ट में शताब्दीपुरम में एक भूखंड 10 अक्टूबर 2013 को बल्देव सिंह भदौरिया, बल्देव की पत्नी किरण, पुत्र आदित्य, कर्मचारी मनोज किशन व सहयोगी मयंक मिश्रा से लिया था। जिसकी रजिस्ट्री उसे की गई। बदले में 16 लाख रुपए लिए। पर इसके बाद 30 दिसंबर 2015 को जीडीए ने इस रजिस्ट्री को निरस्त कर जाली बताकर भूखंड का एक बड़ा भाग तोड़ दिया था। इसके बाद से वह लगातार अपने साथ हुए धोखे की शिकायत करते हुए थाना, सीएसपी ऑफिस, एसपी ऑफिस, आईजी ऑफिस, सीएम हेल्पलाइन, डीजीपी तक शिकायत कर चुकी है। बीते कुछ सालों में 70 आवेदन विभागों में दे चुकी हैं। पर मामला दर्ज नहीं हो सका है। नीलम ने बताया कि वह आवेदन करते हुए थक चुकी हैं। इस बार भी उन्हें जांच कराने का आश्वासन मिला है। इसमें एसपी ग्वालियर का कहना है कि मेरे पास पहले मामला नहीं आया है। इसलिए जांच में लिया है।

कांग्रेस नेता पर रुपए उधार लेकर हड़पने का आरोप, एसपी से शिकायत

कांग्रेस नेता गुरुमुख किरोसिया पर कुछ लोगों ने धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए मंगलवार को पुलिस अधीक्षक से शिकायत की है। बताया गया है कि नई सड़क निवासी परमानंद खटवानी, शिशु सूरी व बृजेश लोधी कई स्थानीय लोगों के साथ पुलिस अधीक्षक कार्यालय में जनसुनवाई में पहुंचे। एसपी नवनीत भसीन को आवेदन देकर शिकायत की है कि कुछ वर्ष पूर्व कांग्रेस नेता गुरुमुख किरोसिया ने परमानंद खटवानी से 1.08 लाख, शिशु सूरी से 1.83 लाख व जसवंत लोधी से 45 हजार रुपए लिए थे। वर्ष 2018 में लौटाने का वादा किया, लेकिन अभी तक नहीं दिए। मांगने पर झूठा मामला दर्ज कराने की धमकी देते हैं। पुलिस ने आवेदन को जांच में लिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020