Gwalior News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जीवाजी विश्वविद्यालय के आर्यभट्ट हास्टल में विद्यार्थियों ने खराब खाना व गंदगी की समस्या काे लेकर ताला लगा दिया और प्रदर्शन करने लगे। इसकी सूचना मिलने पर अधिकारी मौके पर पहुंचे और उनकी समस्याएं सुनी। चीफ वार्डन केएस ठाकुर ने विद्यार्थियों के साथ बैठकर खाना खाया तो उसकी गुणवत्ता ठीक निकली, लेकिन मेस संचालक को निर्देशित किया कि भविष्य में खाने की गुणवत्ता का ध्यान रखें।

आर्यभट्ट हास्टल में करीब 100 विद्यार्थी निवास कर रहे हैं। इस हास्टल में वाटर कूलर व आरओ खराब पड़ा है। मैस में अच्छा खाना भी नहीं मिल रहा है। पानी की टंकियां नहीं भर पा रही हैं। टायलेट की नियमित सफाई नहीं हो रही है, जिससे गंदगी फैल रही है। इन सभी समस्याओं को लेकर विद्यार्थी परेशान थे। इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता भी पहुंच गए। हास्टल के बाहर हंगामा करने लगे। इस हंगामे की सूचना मिलने पर चीफ वार्डन केएस ठाकुर, उप कुलसचिव अरुण चौहान सहित अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। उन्होंने समस्याएं सुनी। सफाई को लेकर सफाई कर्मी से पूछताछ की तो उसने बताया कि स्टोर से सामान नहीं मिल रहा है। जिसके चलते सफाई नहीं हो पा रही है। टंकी में पानी नहीं पहुंच रहा है। इसके लिए यंत्री विभाग को निर्देशित किया। दो दिन में सभी समस्याओं के निराकरण का भरोसा दिया। इसके बाद विद्यार्थियों का गुस्सा शांत हुआ। हास्टल काफी बदहाल स्थिति में था।

प्रमोशन को लेकर जूटा ने सौंपा ज्ञापनः जीवाजी यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रो. जेएन गौतम ने शिक्षकों की पदोन्नति की मांग को लेकर जेयू के कुलपति प्रो. अविनाश तिवारी को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने करियर एडवांसमेंट स्कीम के तहत पदोन्नति की प्रक्रिया को शुरू करने की मांग की है। ज्ञापन देने वालों में प्रो. एसके सिंह, डा मुकुल तैलंग, डा नवनीत गरुण, डा मनोज शर्मा, डा नीमिषा जादौन शामिल हैं। ज्ञात हाे कि डा शांति देव सिसौदिया, डा राजेन्द्र खटीक, डा समीर भाग्यवन्त, डा गणेश दुबे, डा नवनीत गरुड, डा मनोज शर्मा एवं डा हरेन्द्र शर्मा को सह प्राध्यापक से प्राध्यापक एवं डा सुशील मंडेरिया, डा सपन पटेल, डा. निमिषा जादौन, डा रामशंकर, डा. जीके शर्मा, डा. जनार्दन तिवारी, डा स्वर्णा परमार को विभिन्न ग्रेड प्रदान करके पदोन्नति दी जानी है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close