ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। अंबाला से उज्जैन की यात्रा कर रहे यात्री को धौलपुर पर उसके स्वजनांे का फोन आया और वह धौलपुर में उतर गया। लेकिन इस दौरान उसका बैग ट्रेन में ही रह गया। इस बात की सूचना उसने स्टेशन प्रबंधक को दी। जिससे झांसी कंट्रोल रूम को दी। इसके बाद आरपीएफ ने ग्वालियर में यात्री के बैग को उतार दिया। इसके चार घंटे बाद आए यात्री के भाई को बैग लौटा दिया। यहां बता दें यात्री धौलपुर का ही रहने वाला था और वह मालवा एक्सप्रेस से अंबाला से उज्जैन जा रहा था।

घटनाक्रम के मुताबिक जम्मू से इंदौर जा रही मालवा एक्सप्रेस के स्लीपर कोच में धौलपुर निवासी शेर सिंह नाम का यात्री अंबाला से उज्जैन के लिए यात्रा कर रहा था। जब ट्रेन आगरा से निकली और धौलपुर के पास आई तो उसके स्वजनों का फोन आया। फोन पर बात करने के बाद वह धौलपुर में ही ट्रेन से उतर गया। लेकिन इस दौरान उसका बैग स्लीपर कोच में ही रह गया। ट्रेन के जाने के बाद उसे अपने बैग की याद आई। इसके बाद उसने धौलपुर के स्टेशन प्रबंधक को कोच में बैग के छूटने की बात बताई। इसके बाद स्टेशन प्रबंधन ने झांसी के कंट्रोल रूम को सूचना दी। इसके बाद यह सूचना ग्वालियर आई। ग्वालियर आरपीएफ ने ट्रेन से यात्री के बैग को उतार लिया और सुरक्षित रख लिया। इसके बाद सुबह यात्री शेर सिंह का भाई ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ के पास पहुंचा। उसने पहचान केदस्तावेज आरपीएफ के सामने प्रस्तुत किए। इसके बाद आरपीएफ ने यात्री का बैग वापस कर दिया।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags