• एक लाख के बदले थे 40 हजार के असली नोट

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अपर सत्र न्यायाधीश मुकेश रावत ने नकली नोटों के रैकेट से जुड़े तीन आरोपितों को सात-सात साल की सजा सुनाई है। तीन आरोपितों को फरार घोषित कर दिया है। आरोपित 40 हजार असली नोटों के बदले में 1 लाख नकली नोट लेते थे और शहर में नकली नोटों को खापते थे।

अपर लोक अभियोजक वसीम खान ने बताया कि क्राइम ब्रांच को मुखबिर से 13 जुलाई 2015 को मेला ग्राउंड पर कुछ लोग नकली नोट लेकर आए हैं। रंगमंच के पास पैसे गिन रहे हैं। क्राइम ब्रांच की टीम ने मेला ग्राउंड में घेरा बंदी की। चार लोग नोट गिन रहे थे। इन चार लोगों को नोटों के साथ गिरफ्तार कर लिया। पंश्चिम बंगाल से नकली नोट लेकर आए कयूम मियां से पूछताछ की तो उसने पूरी कहानी बताई। बंग्लादेश से नकली नोट लाता था और ग्वालियर से 40 हजार असली नोटों के बदले में 1 लाख रुपये नकली नोट देकर जाता था। पुलिस ने 1 लाख 83 हजार नकली नोट बरामद किए थे।

नहार सिंह निवासी एमजेएस कालेज भिंड, सैंकी उर्फ समकित जैन निवासी शिंदे की छावनी, रवि जैन, इंद्रजीत सिंह निवासी कलियाचक मालदा पश्चिम बंगाल, कयूम मिया निवासी सुसानी मालदा पश्चिम बंगाल, इंदूशाह कलियाचक मालदा पश्चिम बंगाल को गिरफ्तार किया था। क्राइम ब्रांच ने जांच कर कोर्ट में चालान पेश कर दिया। पांच साल की ट्रायल के बाद कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाया है। नहार सिंह निवासी एमजेएस कालेज भिंड, सैंकी उर्फ समकित जैन निवासी शिंदे की छावनी, रवि जैन को सात-सात साल की सजा सुनाई है। शेष तीन आरोपित कोर्ट में उपस्थित नहीं हुए, उन्हें फरार घोषित कर दिया।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस