Gwalior News: ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। परिवहन विभाग ने तीन उप परिवहन आयुक्त (उपायुक्त) के बीच कार्य का विभाजन कर दिया है। तीन उपायुक्त अलग-अलग संभाग का कार्य संभालेंगे। कार्य के इस विभाजन से रीजनल ट्रांसपोर्ट अथोरिटी (आरटीए) का कार्य प्रभावित नहीं होगा। बस के परमिट, समय बदलाव सहित अन्य मामलों की सुनवाई शीघ्र हो सकेगी।

आरटीए के अध्यक्ष के रूप में उप परिवहन आयुक्त कार्य करते हैं। आरटीए में संभागीय रूटों पर जारी होने वाले परमिटों की सुनवाई होती है, उसके बाद परमिट जारी होते हैं। अब तक प्रदेश के आठ संभाग की जिम्मेदारी उप परिवहन आयुक्त एके सिंह के पास थी। साथ ही विभाग में जो शिकायतें आती थी, उनकी भी जांच इन्हें दी गई थी। इस कारण सारे कार्य प्रभावित हो जाते थे। इन समस्याओं को देखते हुए विभाग ने कार्य विभाजन किया है। एके सिंह के पास ग्वालियर, चंबल, भोपाल, नर्मदापुरम संभाग की जिम्मेदारी रहेगी। वहीं सपना जैन के पास उज्जैन, इंदौर व सुनील शुक्ला के रीवा, शहडोल, सागर, जबलपुर संभाग का कार्यभार रहेगा।

10 डिप्टी टीसी होना चाहिए, हैं सिर्फ तीन: परिवहन विभाग ने प्रदेश में 10 संभाग होने पर हर संभाग पर 10 उप परिवहन आयुक्त के पद सृजित किए हैं, लेकिन वर्तमान में विभाग के पास एके सिंह, सपना जैन और सुनील कुमार शुक्ला के रूप में सिर्फ तीन अफसर ही कार्यरत हैं।

बीए प्रथम वर्ष की परीक्षाएं प्रारंभः बीए प्रथम वर्ष की परीक्षाएं सोमवार से प्रारंभ हो गई हैं। पहले दिन परीक्षा में तीन छात्रों को मुरैना में नकल करते हुए पकड़ा गया है। नई शिक्षा नीति के तहत बीए प्रथम वर्ष की परीक्षाएं प्रारंभ हुईं। परीक्षा में 35000 छात्र शामिल हुए । परीक्षा के लिए अचंल में 92 सेंटर बनाए गए थे। प्रथम दिन अग्रेंजी संस्कृत, व उर्दु के मेजर विषयों की परीक्षाएं हुईं। यह परीक्षा सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक आयोजित की गई।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close