Gwalior Oxygen Crisis News: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना महामारी में ऑक्सीजन की किल्लत का समाधान लेकर मालनपुर की सनफार्मा दवा कंपनी जेएएच पहुंच चुकी है। सनफार्मा कंपनी जयारोग्य अस्पताल परिसर में एयर सेपरेशन प्लांट लगा रही है। जिसके लिए अमेरिका से 36 लाख रुपये की डिवाइस मंगवाई जाएगी, जो हवा से ऑक्सीजन तैयार करेगी। प्लांट एक मिनट में 370 लीटर ऑक्सीजन तैयार करेगा, जो 200 बेड के लिए पर्याप्त होगी। जेएएच को आए दिन होने वाली ऑक्सीजन की परेशानी से राहत मिल जाएगी। कंपनी के जनरल मैनेजर बीके मिश्रा दल बल के साथ मंगलवार को अस्पताल पहुंचे, जहां पर उन्होंने प्लांट लगाने के लिए जगह भी चिन्हित कर ली है। इस मौके पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष शांतिशरण गौतम, एडीएम रिंकेश वैश्य, जेएएच अधीक्षक डा.आरकेएस धाकड़, डा.सुनील अग्रवाल मौजूद रहे।

इनको मिलेगी ऑक्सीजनः जेएएच के कार्डियोलॉजी विभाग के सामने लगे आइनोक्स के ऑक्सीजन टैंक के पास ही प्लांट के लिए जगह चिन्हित की गई है। जहां पर अगले 15 दिन में प्लांट लगकर तैयार होगा। इससे कार्डियोलॉजी, मेडिसिन आइसीयू, नवनिर्मित बर्न यूनिट में भर्ती मरीजों को ऑक्सीजन की सप्लाई दी जा सकेगी।

इस तरह करेगा कामः टैंक के बगल से प्लांट लगकर तैयार होगा। प्लांट में लगी मशीनें हवा से ऑक्सीजन तैयार करेंगी। तैयार ऑक्सीजन को सीधे पाइपलाइन के जरिए कार्डियोलॉजी, मेडिसिन आइसीयू, बर्न यूनिट में पहुंचाई जाएगी। साथ ही संभावना इस बात की जताई गई है कि सिलिंडर भी रिफिल किए जा सकेंगे।

अभी सिलिंडर से सप्लाई हो रही ऑक्सीजनः कार्डियोलॉजी, मेडिसिन आइसीयू व बर्न यूनिट में सेंट्रल ऑक्सीजन सिस्टम लगा हुआ है, जो आइनोक्स के टैंक से जुड़ा है पर टैंक में लिक्विड ऑक्सीजन न होने के कारण इन स्थानों पर सिलिंडर से ऑक्सीजन की सप्लाई दी जा रही है। प्लांट लगने से सिलिंडर से सप्लाई करने से छुटकारा मिल सकेगा।

दो वाइपेप मशीन मिलेंगी जेएएच कोः आयकर के असिस्टेंट कमिश्नर विक्रम पागरिया ने जेएएच को दो वाइपेप मशीन देने की पहल की है। जेएएच अधीक्षक डा.आरकेएस धाकड़ ने कहा कि विक्रम पागरिया अभी दिल्ली में आयकर अधिकारी हैं। उन्होंने फोन पर बताया कि आपको दो वाइपेप मशीनें बुधवार को दिल्ली से भेजी जा रही हैं, जो जेएएच में भर्ती मरीजों को इलाज देने में सहायता देंगी।

होटल, हॉस्टल व प्राइवेट रूम में रहेंगे कोरोना योद्धाः जयारोग्य अस्पताल के कोविड वार्ड में काम करने वाले डाक्टर व स्टाफ को रहने के लिए जेएएच के प्राइवेट रूम खोल दिए गए हैं। ऐसे लोग जो कोविड ड्यूटी में अपने घर नहीं जाना चाहते वह यहां पर रह सकेंगे। साथ ही जैन समाज ने जैन हॉस्टल भी डाक्टर व स्टाफ के रहने के लिए खोल दिया है, जहां पर उनके रहने व खाने की व्यवस्था जैन समाज की ओर से ही रहेगी। इसके अलावा गांधी नगर स्थित होटल में भी डाक्टर व स्टाफ के लिए निशुल्क रहने व खाने की व्यवस्था की गई है। होटल बिल्डर आलोक श्रीवास्तव की ओर से रहेगा।

वर्जन-

ऑक्सीजन की समस्या को लेकर सनफार्मा के जनरल मैनेजर बीके मिश्रा के सामने प्लांट लगाकर मदद करने की बात रखी गई थी, जिस पर उन्होंने सहमति जताई। कलेक्टर से इस विषय में बात की गई तो वह तैयार हो गए। इसके बाद एडीएम रिंकेश वैश्य और जेएएच अधीक्षक ने जगह उपलब्ध कराने में मदद की। अब जल्द ही ऑक्सीजन की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

शांतिशरण गौतम, उपाध्यक्ष जिला पंचायत

वर्जन-

प्रशासन की अच्छी पहल है, सनफार्मा कंपनी के जनरल मैनेजर व एडीएम रिंकेश वैश्य ने प्लांट लगाने का प्रस्ताव रखा। प्लांट के लिए जगह भी चिन्हित कर दी गई है। अगले 15 दिन में प्लांट लगाने की बात कही गई है। इसके साथ ही दो वाइपेप मशीन व डाक्टर और स्टाफ के रहने के लिए जैन हॉस्टल व होटल भी उपलब्ध समाजसेवियों ने करा दिए हैं।

डा.आरकेएस धाकड़, अधीक्षक जेएएच

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags