Gwalior Pregnant Women Vaccination: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। गर्भवती महिलाओं के वैक्सीनेशन का कार्य शुरू हाे चुका है। हालांकि वैक्सीन लगवाने बहुत कम गर्भवती महिलाएं पहुंच रही हैं, उनकाे भी पहले समझाना पड़ रहा है कि टीके से काेई नुकसान नहीं है, इसके बाद वह वैक्सीन लगवाने काे तैयार हाे रही हैं। इसी प्रकार की परेशानी का सामना कई जगह स्टाफ काे करना पड़ा। पहले दिन केवल 78 गर्भवती महिलाओं का वैक्सीनेशन हुआ है।

कोरोना वायरस के तीसरे कहर से बचाव के लिए शुक्रवार काे गर्भवती महिलाओं काे काेवैक्सीन लगाई जा रही है, ताकि दूसरा टीके का लाभ भी इन्हें 28 दिन में मिल सके। सप्ताह में दो दिन शुक्रवार और मंगलवार को गायनिक विभाग में ओपीडी के साथ ही वैक्सीन लगाने का कार्य किया जाएगा। टीकाकरण के उपरांत अगर गर्भवती को कोई समस्या आती है तो तत्काल स्त्री रोग विशेषज्ञ उसे इलाज दे सकेंगी। शुक्रवार को जिला अस्पताल के प्रसूतिगृह से टीकाकरण का शुभारंभ हुआ। इस मौके पर जिला पंचायत सीईओ किशोर कान्याल और सीएमएचओ डा. मनीष शर्मा पहुंचे। इसके अलावा जेएएच के माधव डिस्पेंसरी की ओपीडी और बिरलानगर प्रसूतिगृह में पहुंचने वाली 78 गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन का लाभ मिला। वहीं आज 124 केंद्रों पर 34 हजार लोगों को टीका का लाभ देने का लक्ष्य रखा गया है। शहरी क्षेत्र में आनलाइन स्लाट बुक करने पर टीका लगेगा, जबकि ग्रामीण में आनस्पाट पंजीयन होगा। शहरी क्षेत्र के केंद्रों पर शाम चार बजे के बाद वैक्सीन बची तो आनस्पाट पंजीयन कर प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

गिनाए वैक्सीन के लाभ : वैक्सीन कोरोना के वायरस से जच्चा-बच्चा की रक्षा करती है,क्योंकि कोरोना होने पर महिला का गर्भपात हो सकता। बच्चा कमजोर पैदा हो सकता। जन्म होने पर बच्चे को भर्ती करना पड़ सकता। महिला गंभीर रोग से ग्रसित हो सकती, इन सभी से वैक्सीन बचाती है।

यह रही परेशानीः जेएएच में ओपीडी के साथ 57 नंबर कक्ष में वैक्सीन लगाई जा रही थी, पर आब्जर्वेशन रुम न बनाकर बाहर बैंच पर ही बैठने की व्यवस्था की गई थी। जो महिलाएं चैकअप कराने पहुंची उनकी गंभरता से काउंसलिंग नहीं की गई। इस कारण से जेएएच में महज 15 महिलाओं ने ही वैक्सीन का लाभ लिया। वहीं मुरार प्रसूतिगृह की ओपीडी में रुटीन चेकअप कराने पहुंची गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन के बारे में समझाया गया। स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. रीना सक्सेना ने बताया कि पहले कुछ महिलाओं ने यह कहते हुए मना किया कि टीका गर्म रहता होगा। इससे गर्भ को नुकसान पहुंच सकता है। जब मेरे साथ अन्य डाक्टर ने महिलाओं की काउंसिलिंग की तो वह वैक्सीन लगवाने तैयार हो गई

वर्जन-

डबरा-भितरवार में सोमवार व गुुरुवार करे गर्भवती महिलाएं अपना रुटीन चैकअप कराने पहुंचती है। इसलिए वहां पर आज टीकाकरण शून्य रहा। अब डबरा-भितरवार में सोमवार व गुरुवार को टीका लगाया जाएगा जबकि ग्वालियर में शुक्रवार व मंगलवार को। मोहना व हस्तिनापुर में महिला चिकित्सक न होने से अधिकांश महिलाएं मुरार अस्पताल आती हैं।

डा रामकुमार गुप्ता टीकाकरण अधिकारी

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local