Gwalior Raja Mahir Bhoj controversy: ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा को लेकर मच रहे बवाल को बढावा देने का काम दफ्तरों में बैठकर मोटी तनख्वा वह भी बिना कोई अधिक काम धाम किए पाने वाले कर्मचारी अधिकारियों ने दिया है। इन लोगों ने वाट्सएप ग्रुपों एवं समाजजनों को लेकर विरोध कराया। इनके वाट्सएप ग्रुप एवं इंटरनेट मीडिया पर प्रचारित की गई सामग्री कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह के पास पहुंच चुकी हे। इसके चलते कलेक्टर ने ऐसे नेताओं पर कार्रवाई करने का निर्णय लिया है। वहीं अब इंजीनियर भी इसके विरोध में अपने सुर मुखर करने की तैयारी कर रहे हें। अब देखना होगा कि प्रशासन अपनी कार्रवाई पर अड़ा रहता है अथवा इंजीनियर रविवार को आयुक्त किशोर कान्याल ने नगर निगम के सीवर संधारण के प्रभारी एवं जलप्रदाय के कार्य से मुक्त करते हुए नगर निगम मुख्यालय में अटैच कर दिया है। इसके साथ ही उनके सभी दायित्व कार्यपालन यंत्री जागेश श्रीवास्तव को सौंपे गए हैं।

सम्राट मिहिर भोज को लेकर क्षत्रिय व गुर्जर समाज आमने सामने आ गए थे। इस मामले को लेकर प्रशासन ने भी अपना रूख सख्त कर लिया था। वहीं मामला न्यायालय में भी पहुंच चुका है। वहीं जिला प्रशासन को जानकारी मिली थी कि राजेंद्र भदौरिया सहित निगम के कुछ अधिकारी इस मामले को इंटरनेट मीडिया के माध्यम से तूल दे रहे हैं। इसके चलते एडीएम रिंकेश वैश्य ने भी शनिवार को निगम के एक इंजीनियर को मौके पर ही कडी फटकार लगाई थी। यह भी उसी टीम के हिस्से थे जिन्होंने समाज के दो धड़ों को आपस में लड़वाने का कार्य किया था।

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local