Gwalior RTO News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। कोविड-19 के संक्रमण को देखते हुए उत्तर प्रदेश व राजस्थान में बसों का संचालन रोक दिया है। इस वजह से बरात व टूरिस्ट परमिट पर भी प्रतिबंध लग गया है। इस कारण 8 व 7 मई के सहालग की बुकिंग परेटरों ने निरस्त कर दी हैं। साथ ही परेटरों ने परमिट भी सरेंडर कर दिए हैं। इसके अलावा जिले के रूटों पर सवारियां घट जाने से 50 फीसद बसें खड़ी हो गई हैं।

म लोगों के लिए ट्रेन व बस यातायात के साधन है। पड़ोसी राज्यों में कोविड-19 का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इस वजह से राजस्थान व उत्तर प्रदेश जाने वाली बसों पर रोक लगा दी है। जो बसें उत्तर प्रदेश होते हुए बुंदेलखंड के जिलों में जाती थी, उनका भी संचालन बंद है। संचालन बंद होने के बाद अापरेटर को खड़ी बस का टैक्स न देना पड़े, उसको लेकर विभाग ने भी विकल्प दिया था। करीब 50 बसों के परमिट सरेंडर हो गए हैं।

दो दिन थी बड़ी लग्न

विवाह समारोह की 7 व 8 मई की बड़ी लग्न थी। लोगों ने बरात ले जाने के लिए 6 महीने पहले बस बुक कर ली थी, लेकिन कोविड-19 की वजह से शादियों में लोगों की संख्या भी सीमित हो गई है। साथ ही दूसरे राज्यों जाने वाली बसें प्रतिबंधित है। इस वजह से लोगों ने अपनी बुकिंक को रद्द करा लिया है। बस की वजाए लोग निजी वाहन से जाना चाह रहे हैं।

इनका कहना है

- राजस्थान व उत्तर प्रदेश के लिए बस सेवा प्रतिबंधित है। इस वजह से अापरेटर एडवांस टैक्स जमा करके परमिट सरेंडर कर रहे हैं। बरातों के भी परमिट भी बंद है।

एसपीएस चौहान, अारटीओ

- अधिकतर अापरेटरों ने अपनी बसों को खड़ा कर दिया है। जेब से डीजल देकर बस चलानी पड़ रही थी। स्थानीय रूटों की 50 फीसद बसें खड़ी हो चुकी हैं।

पदम गुप्ता, महासचिव, मप्र रोडवेज बस परेटर

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags