Gwalior Scindhia security News: ग्वालियर/मुरैना (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दिल्ली से चलकर सड़क मार्ग से ग्वालियर आए राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की सुरक्षा में रविवार रात को मुरैना व ग्वालियर पुलिस से चूक हो गई। सिंधिया बिना पायलट व फॉलो के ट्रिपल आइटीएम कालेज के पास तक पहुंच गए। चूक सामने के बाद ग्वालियर एसपी अमित सांघी ने निरीक्षक, दो उपनिरीक्षक सहित पांच जवानों को निलंबित कर दिया है। वहीं मुरैना एसपी ने नौ जवानों को निलंबित किया है। सिंधिया को जेड सुरक्षा प्राप्त है। इस चूक के बाद सोमवार को जयविलास पैलेस पर सिंधिया की सुरक्षा बढ़ा दी गई।

सिंधिया रविवार शाम साढ़े सात बजे के करीब दिल्ली से ग्वालियर की ओर आ रहे थे। उनकी गाड़ी चंबल की सीमा में प्रवेश करने पर मुरैना जिले की पुलिस को फॉलो करना था, लेकिन फॉलो गाड़ी सिंधिया की गाड़ी के पीछे नहीं आई। इस फॉलो में बोलेरो जीप में नौ पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई थी। जब सिंधिया की गाड़ी का फॉलो नहीं कर पाई तो कंट्रोल रूम से सरायछोला थाना व सिविल लाइन थाने को सूचना दी गई।

इस पर दोनों थानों के टीआई गाड़ी लेकर सिंधिया के साथ ग्वालियर बॉर्डर तक उन्हें सुरक्षित छोड़कर आए। फॉलो गाड़ी सिंधिया की गाड़ी के आगे-पीछे न आने पर इसे सुरक्षा में चूक मनाते हुए पुलिस अधीक्षक मुरैना ने चालक रामबिहारी, चालक थावर ठाकुर, एएसआइ विनोद सिंह, आरक्षक राकेश, आरक्षक अनिल, आरक्षक संतराम, आरक्षक जितेंद्र, प्रधान आरक्षक बदन सिंह, एएसआइ शिवराज सिंह को निलंबित कर दिया है।

ग्वालियर एसपी अमित सांघी ने बताया कि सिंधिया को जेड सुरक्षा प्राप्त है। निर्धारित मापदंडों के अनुसार मुरैना बॉर्डर से उनके काफिले को पायलट व फॉलो कर जयविलास पैलेस तक लाना था। मुरैना की सीमा पर पायलट व फॉलो लगाया था। मुरैना पुलिस को चंबल पुल से जिले के बॉर्डर तक छोड़ना था।

दोनों जिलों की पुलिस में संवाद नहीं होने के कारण चूक हुई है। मुरैना पुलिस कंट्रोल रूम ने समय पर सूचना नहीं दी और राज्यसभा सदस्य बिना सुरक्षा के ग्वालियर ट्रिपल आइटीएम कालेज तक पहुंच गए। सिंधिया की सुरक्षा में लगाए गए निरीक्षक, दो उप निरीक्षक, दो आरक्षकों को निलंबित कर दिया। सिंधिया की गाड़ी बिना सुरक्षा के देखकर हजीरा थाना प्रभारी आलोक सिंह परिहार ने उन्हें पायलटिंग करते हुए महल तक छोड़ा था। एसपी सांघी ने कंट्रोल रूम प्रभारी आलोक त्रिवेदी, सूबेदार अनुपम भदौरिया व आरक्षक जितेंद्र सहित पांच जवानों पर कार्रवाई की है।

कंडम गाड़ियों से कराई जाती है पायलटिंग व फॉलो

सुरक्षा में लगी गाड़ियां पुरानी और इनका पिकअप कम होता है। इस कारण यह जनप्रतिनिधियों की महंगी और लग्जरी गाड़ियों का यह पीछा नहीं कर पातीं। बीती रात भी चूक का यही कारण माना जा रहा है। सिंधिया की गाड़ी पायलट गाड़ी को पास करती हुई आगे निकल गई, जिससे पायलट गाड़ी को बहुत पीछे छोड़ दिया। बताया जाता है कि सिंधिया को रात आठ बजे तक राजघाट तक पहुंचना था, लेकिन वे अपने तय समय से पहले साढ़े सात बजे ही पहुंच गए।

इनका कहना है

सिंधिया जी की गाड़ी आगे निकल गई थी, लेकिन सिविल लाइन व सरायछोला थाने की गाड़ियों को उनके पीछे लगाया गया। जिनके द्वारा उन्हें ग्वालियर तक छोड़ा गया है।

राय सिंह नरवरिया, एएसपी मुरैना

Posted By: anil.tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local