Gwalior Side Effect of Corona: ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमण की वजह से पिछले साल भी आइसक्रीम व ठंडे पेय पदार्थों का बाजार प्रभावित हुआ था। इस बार फिर से जब गर्मी का मौसम आया तो कोरोना संक्रमण फैल गया। ऐसे में लॉकडाउन व ठंडे खाद्य व पेय पदार्थों के सेवन से बचने की वजह से आइसक्रीम व ठंडे पेय पदार्थों के कारोबार पर बुरा असर पड़ रहा है। अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस कारोबार पर करीब 80 फीसदी प्रभाव पड़ा है।

कोरोना की वजह से इन सभी पदार्थों की बिक्री पूरी तरह से ठप है। ठंडे आयटम की सबसे अधिक खपत होटल, रेस्त्रां शादी और दूसरे आयोजनों में होती है लेकिन इस वर्ष भी ये सभी बंद हैं। ठंडे के कारोबार से जुड़े कारोबारियों के मुताबिक गर्मी के मौसम में प्रतिमाह करीब 8 करोड़ का नुकसान हो रहा है। इस साल फरवरी और मार्च में जरूर थोड़ा-बहुत कारोबार हुआ लेकिन अब हालत बहुत ही खराब है। उनका मानना है कि इस साल भी कारोबार न के बराबर ही रहेगा। करोड़ एक माह में बिकती है दो करोड़ की आइस्क्रीम वैसे तो शहर में आइस्क्रीम की खपत साल भर होती है लेकिन फरवरी माह से इसका सीजन प्रारंभ हो जाता है। एक प्रमुख आइस्क्रीम कंपनी के डिस्र्टीब्यूटरों ने बताया कि गर्मी के में एक माह में दो करोड़ रुपए की आइस्क्रीम बिक जाती है। पिछले साल की तरह इस बार का सीजन भी ऐसे ही जा रहा है। इस साल फरवरी और मार्च में थोड़ी-बहुत बिक्री हुई थी। कोल्ड ड्रिंक और जूस का भी है बड़ा बाजार कोल्ड ड्रिंक और जूस को पसंद करने वालों की भी कमी नहीं है, पर कोरोना काल में इनकी बिक्री भी बंद है। हर साल कोल्ड ड्रिंक की एक करोड़ से अधिक की बिक्री हो जाती थी, वहीं पैक्ड जूस सहित फलों के जूस, शेक का भी 80 लाख से अधिक का कारोबार होता था।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags