- बरोनी को थ्रू लाइन पर ले जाने के लिए दिया सिग्नल, उस लाइन से गुजर रही थी मालगाड़ी

Gwalior Train derailed News: ग्वालियर. (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रेलवे स्टेशन पर हुए बरोनी मेल हादसे की जांच के लिए शुक्रवार को झांसी मंडल से जांच दल सकता है। क्योंकि स्टेशन पर जो हादसा हुआ है, वह काफी गंभीर है। थ्रू लाइन पर दो ट्रेनों को लाइन दे दिया था, यह गंभीर चूक है। मालगाड़ी के ने से बरोनी मेल डेड लाइन पर चली गई। जिससे पीछे दो डिब्बे पटरी से उतर गए। डेड लाइन पर रखे स्लीपर से टकराने के बाद ट्रेन रुक गई।

गत दिवस बरोनी मेल को परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा है। यह ट्रेन झांसी की वजाए कानपुर, इटावा ,भिंड मार्ग से होते हुए ग्वालियर रही है। रात 9:45 बजे प्लेटफार्म नंबर दो पर पहुंची। यात्रियों के ट्रेन से उतर जाने के बाद ट्रेन को मेंटेनेंस के लिए यार्ड में ले जाया जा रहा था। इस ट्रेन को बैक करते हुए डाइन लाइन की थ्रू लाइन पर लेना था। सिग्नल मिलने के बाद लोको पायलट ने ट्रेन को बैक करना शुरू कर दिया। वहीं दूसरी ओर दिल्ली की ओर जाने वाली मालगाड़ी को भी लाइन दे दिया। मालगाड़ी भी थ्रू लाइन पर गई। थ्रू लाइन पर होते हुए गुजर रही थी। थ्रू लाइन का पाइंट नहीं बदला। बरोनी मेल डेड लाइन पर चली गई। इससे दो डिब्बे पटरी से उतर गए। एक बड़ी घटना होने से टल गई। क्योंकि बरोनी मेल थ्रू लाइन पर पहुंच जाती तो तेज गति से जा रही मालगाड़ी से टकरा जाती, जिससे रेलवे को बड़ी हो जाती है।

गंभीर गलती श्रेणी में आती है ऐसी गलती

-स्टेशन पर जो हादसा हुआ है, वह गंभीर गलती की श्रेणी में आती है। इसमें जिस कर्मचारी की गलती निकलेगी, उसे बड़ी सजा मिलेगी। क्योंकि डेड लाइन पर हादसा विशेष परिस्थियों में ही होता है।

- स्टेशन पर मौजूद कर्मचारियों ने प्राथमिक पड़ताल की, उसमें आरआरआइ व लोको पायलटों की गलती सामने आ रही है। किस स्तर पर गलतीहुई है। इसके लिए जांच कमेटी बनाई जाएगी। घटना के वास्तविक कारण पता किए जाएंगे।

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close