Gwalior Tulsi Shaligram marriage: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सनातन धर्म मन्दिर में बुधवार काे ब्याहुला उत्सव का आयोजन किया गया। जिसके लिए मंदिर के चक्रधर हाल में भव्य विवाह मंडप सजाया गया। जिसमे सुबह मुख्य पुजारी पंडित रमाकांत ने शुभ मुहूर्त में लग्न मंडप लगाया। विवाह स्थल मंदिर परिसर में आकर्षक सजावट की गई। इस दौरान चक्रधर का विशेष श्रृंगार हुआ। साथ ही दूल्हा बने शालिग्राम को नए वस्त्र, धोती, मुकुट, मोतियों, पुष्पों व मेवा की सुंदर माला पहनाई गई। दुल्हन तुलसी को नई साड़ी पहनाकर चुनरी ओढ़ाई गई, माथे पर बेंदा, गले मे मंगलसूत्र, कंगन, चांदी के बिछिये, मेहंदी, सुहाग के सभी सामान से श्रृंगार कर विवाह के लिए सजाया गया।

तुलसी-शालिग्राम के विवाह उत्सव के दौरान बुधवार की शाम को मंदिर परिसर स्थित गणेश मंदिर से शालिग्राम की बारात बैंड बाजे के साथ में शुरू हुई, जो मंदिर परिसर में हनुमान मंदिर, शिव मंदिर, गिरिराजधरन मंदिर, देवी मंदिर, होते हुए विवाह स्थल चक्रधर मंदिर में पहुंची। जहां मुख्य यजमान रमेशचंद्र गर्ग व पुष्पलता गर्ग ने शालिग्राम एवं सभी बारातियों की अगवानी कर आत्मीय स्वागत किया। पुष्पलता गर्ग ने शालिग्राम का चांदी के सिक्के एवं श्रीफल से द्वार पर टीका कर द्वाराचार की रस्म निभाई। विवाह मंडप में वरमाला की रस्म पूरी होने के साथ ही आचार्य पंडित रमाकांत शास्त्री ने विवाह के सात वचन पढ़ कर सुनाए। वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ तुलसी, शालिग्राम की गांठ जोड़कर विधिवत सात फेरे हुए। तदुपरांत नित्य नवयुगल के मुख्य यजमान ने पांव पखारे इनके साथ ही रविन्द्र गर्ग, राजेश गर्ग, रचना भटीजा, अजय गुप्ता, महेश नीखरा, राधेश्याम मंगल, देवेंद्र शर्मा आदि के साथ सभी वधू पक्ष के भक्तों ने पांव पखारने की रस्म निभाई। आचार्य रमाकांत शास्त्री ने विवाह की सभी रस्में पूरे विधि विधान से सम्पन्न करवाईं। जब विदा का समय आया तो सभी उपस्थित भक्तगण विदाई गीतों के बीच भावुक हो गए। विवाह उपरांत उपस्थित सभी बाराती-घराती भक्तों ने प्रसाद ग्रहण किया। बारातियों में अध्यक्ष कैलाश मित्तल, प्रधानमंत्री महेश नीखरा, हरिशंकर सिंघल, अजय गुप्ता, विमल माहेश्वरी, नरेन्द्र मंगल, ब्रजेश पाठक, आदि उपस्थित रहे।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local