Gwalior Urban Bodies Election voting 2022: ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर के 66 वार्डो में हुए नगर निगम चुनाव में कुल 49.3 प्रतिशत मतदान हुआ है। मतदान का प्रतिशत नवंबर 2014 में हुए नगरीय निकाय चुनाव से करीब नौ प्रतिशत कम है। पिछली बार मतदान प्रतिशत 58.41 प्रतिशत रहा था। बड़ी बात यह है कि प्रदेश के 11 नगर निगमों के लिए हुए मतदान में ग्वालियर नगर निगम फिसड्डी रहा। मतदान कम होने की सबसे बड़ी वजह मतदाता पर्चियां पूरी तरह से न बंट पाना रहा। एक ही परिवार के सदस्यों का न सिर्फ मतदान केंद्र बदला बल्कि वार्ड भी बदलकर आठ से 10 किलोमीटर दूर हो जाना, दूसरी बड़ी वजह रही। मौसम ने भी मतदाताओं को काफी परेशान किया। सुबह उमस भरी गर्मी और दोपहर में वर्षा के कारण लोग घरों से नहीं निकल पाए। कम मतदान को लेकर प्रमुख राजनीतिक दल भाजपा की चिंता बढ़ गई है। कांग्रेस और पहली बार दमखम से नगरीय निकाय चुनाव मैदान में उतरी आम आदमी पार्टी को यह मतदान अपने पक्ष में नजर आ रहा है।

बुधवार को सुबह सात बजे से आरंभ हुआ मतदान ज्यादातर क्षेत्रों में शांतिपूर्ण रहा। दोपहर बाद वार्ड क्रमांक 45 के सनातन धर्म कन्या विद्यालय पर फर्जी मतदान की शिकायत को लेकर कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार और निर्दलीय प्रत्याशी गिरीश मिश्रा के समर्थकों के साथ विवाद हाथापाई तक पहुंच गया। मामला इंदरगंज थाने पहुंचा तो पुलिस ने पहले कांग्रेस विधायक सतीश सिकरवार और उनके भाई पूर्व विधायक सत्यपाल सिकरवार के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। इसके बाद कांग्रेस नेताओं ने थाने का घेराव किया तो क्रास केस दर्ज कर लिया गया। उपद्रव की आशंका को देखते हुए कुछ वार्डों में प्रत्याशियों के स्वजन को थाने में बैठाया गया।

कलेक्टर-पर्ची क्यों नहीं बंटी, निगमायुक्त-सब गलती निगम की

शासकीय उमा कन्या विद्यालय मुरार क्रं 2 में कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह और निगमायुक्त किशोर कान्याल के बीच कम मतदान को लेकर नोकझोंक हो गई। इस बीच जिला पंचायत सीइओ ने भी निगम को जिम्मेदार ठहरा दिया। नईदुनिया लगातार दो दिन से बता रहा था कि निगम के टीसी मतदाता पर्ची लेकर बैठे रहे और वितरण नहीं किया। नईदुनिया के सर्वे में सामने आया था कि 40 प्रतिशत लोगों को मतदाता पर्ची नहीं मिली है।

- कलेक्टर: मतदान पर्चियां क्यों नहीं बंटी कान्याल ?

निगमायुक्त: कोई भी गलती हो तो नगर निगम, वोटर पर्ची नहीं बंटी तो नगर निगम,पानी नहीं पहुंचा तो निगम।

- कलेक्टर: जब बूथ बदलने ही थे तो बूथ वहीं रहने देते आसपास भवन बदल जाता पर दूसरी जगह शिफ्ट करने की क्या जरूरत थी।

जिला पंचायत सीइओ: इस बार बीएलओ को जिम्मा नहीं दिया गया था, टीसी पर जिम्मा था।

6 केंद्रों पर शून्य मतदान,जहांगीरपुर में 94 प्रतिशत डले वोट

नगर निगम के मतदान केंद्रों में सबसे वार्ड 61 के छह मतदान केंद्र ऐसे भी रहे जहां एक भी वोट नहीं डला। शासकीय प्राथमिक विद्यालय मोहनपुर परिसर के पांच मतदान केंद्र 1066 से 1070 और नेशनल चिल्ड्रन स्कूल बड़ागांव में मतदान केंद्र क्रं 1075 पर शून्य मतदान रहा। यहां कारण यह कि यहां सेना के जवानों के वोट हैं जो मौजूद नहीं हैं। इसके अलावा सबसे ज्यादा मतदान का प्रतिशत शासकीय प्राथमिक विद्यालय जहांगीरपुर कमरा नंबर एक में 94 प्रतिशत तक रहा। यहां 655 में से 615 वोट पड़े। वहीं मोहनपुर के मतदान केंद्र क्रं 1077 पर दो वोट ही डले। शहर में शास्त्री नगर के मतदान केंद्र क्रं 431 पर दस प्रतिशत मतदान हुआ। इसी तरह डीआरपी लाइन के मतदान केंद्र क्रं 56 पर 17 प्रतिशत मतदान हुआ। खुरैरी के मतदान केंद्र क्रं 1080 पर पांच प्रतिशत ही मतदान हुआ।

पिछली बार से मतदान कम क्यों हुआ,इसको लेकर कारणों का विश्लेषण अधिकारियों की टीम के साथ किया जाएगा। मतदाता पर्ची न होने पर हेल्प डेस्क व आनलाइन व्यवस्था भी रही,लोगों ने आइडी के माध्यम से आसानी से वोट डाला।

कौशलेंद्र विक्रम सिंह, कलेक्टर

नगरीय निकाय चुनाव के लिए शहरी क्षेत्र में मतदाताओं के बीच उदासीनता नजर आई। मतदाता सुबह पर्चियां न मिलने और मतदान केंद्रों के बदले जाने से परेशान रहे। दोपहर में बारिश ने घरों में कैद कर दिया। निर्वाचन अधिकारी के अनुसार शाम पांच बजे तक 49.3 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों से जानकारी आने के बाद मत प्रतिशत में बढ़ोतरी की संभावना है। कुछ मतदान केंद्रों पर ईवीएम खराब होने की शिकायतें आईं, लेकिन मतदाताओं को सबसे ज्यादा परेशानी अपना मतदान केंद्र ढूंढने में हुई। जो लोग वर्षों से अपने घर के आसपास बने केंद्र पर मतदान करते आ रहे थे, उनके केंद्र इस बार आठ से 10 किलोमीटर दूर कर दिए गए। दिन में छिटपुट विवाद की घटनाएं भी सामने आईं, लेकिन शाम के समय मतदान के अंतिम चरण में ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र से विधायक डा. सतीश सिंह सिकरवार और निर्दलीय प्रत्याशी गिरीश मिश्रा के बीच सनातन धर्म मंदिर मतदान केंद्र पर हाथापाई हो गई। वहीं भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी लाेकेंद्र पाराशर ने ट्वीट कर कहा है कि कई लाेगाें काे मतदाता सूची नहीं मिली है। जबकि एक परिवार के कई मतदान केंद्राें पर विभाजित कर दिए गए हैं। इस कारण कई लाेग वाेट नहीं डाल पाए। चुनाव आयाेग बताए इसके लिए काैन जिम्मेदार है।

इस मामले में इंदरगंज थाना पुलिस ने विधायक सिकरवार और उनके भाई सत्यपाल सिंह सिकरवार उर्फ नीटू के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर दी। इसके विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इंदरगंज थाने पर चक्काजाम कर दिया। बाद में पुलिस ने इस मामले में क्रास एफआइआर दर्ज की, जिसके बाद कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन बंद किया। वहीं मतदान में उपद्रव की आशंका को देखते हुए कुछ वार्डों में प्रत्याशियों के स्वजन को थाने में बैठाया गया।

डबरा विधायक की गाड़ी पर पथराव, कांग्रेस कार्यकर्ता को पीटाः नगरीय निकाय चुनाव के दौरान डबरा नगर पालिका क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 11 में मतदान के दौरान बीजेपी और कांग्रेस समर्थकों के मतदान को लेकर कहा सुनी हो गई। जिसकी सूचना लगते ही जब कांग्रेस विधायक सुरेश राजे पोलिंग बूथ पर पहुंचे तो उनकी गाड़ी पर पथराव कर दिया। पथराव से उनकी गाड़ी का शीशा फूट गया। वहीं कांग्रेस कार्यकर्ता केदार सिंह के साथ मारपीट की गई और उसको जान से मारने की धमकी दी गई। बाद में कांग्रेस विधायक कार्यकर्ताओं के साथ थाने पहुंचे और भाजपाइयों द्वारा फर्जी मतदान कराए जाने सहित कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट के आरोप लगाए। वहीं पूर्व मंत्री और लघु निगम की अध्यक्ष इमरती देवी ने डबरा के वार्ड दो में निर्दलीय प्रत्याशी के समर्थन में फर्जी मतदान कराने का आरोप लगाया।

दिग्गज नेताओं ने किया मतदान

ग्वालियर पूर्व विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले मुरार उत्कृष्ठ विद्यालय में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और एएमआइ शिशु मंदिर मतदान केंद्र पर केंंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने पुत्र महान आर्यमन सिंधिया के साथ मतदान किया। इसके अलावा प्रदेश के मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने बिरलानगर और भाजपा की महापौर पद की उम्मीदवार सुमन शर्मा ने एमआइटीएस कालेज में मतदान किया। उनका मतदान केंद्र भी बदल गया था।

मतदान का समय एक घंटे बढ़ाने की मांगः भाजपा के प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी ने आयुक्त राज्य निर्वाचन आयाेग काे पत्र लिखा है।

जिसमें उन्हाेंने कहा है कि ग्वालियर सहित प्रदेश के कई जिलाें में काफी बारिश हुई है। जिसके कारण वाेटर करीब एक से डेढ़ घंटे तक मतदान केंद्राें तक नहीं पहुंच सके। ऐसे में ग्वालियर सहित जिन स्थानाें पर वर्षा हुई है, वहां पर मतदान का समय शाम 5 बजे से एक घंटे बढ़ाकर शाम 6 बजे तक कर दिया जाए।

वर्षा के कारण धीमी हुई मतदान की रफ्तारः ग्वालियर में नगरीय निकाय चुनाव के लिए मतदान की शुरुआत धीमी रही। सुबह 9 बजे तक केवल 9 फीसद मतदान हुआ। उमस भरी गर्मी के कारण लाेग घराें से कम संख्या में बाहर निकले, नतीजा दाेपहर 11 बजे तक 21 फीसद और अब दाेपहर एक बजे तक 31 फीसद मतदान हुआ है। इसी बीच शहर में हुई बारिश ने शहरी क्षेत्र में मतदान की रफ्तार काे ओर कम कर दिया। शाम 5 बजे तक भी जिले में 49.03 फीसद मतदान हुआ। वहीं कलेक्टर काैशलेंद्र विक्रम सिंह ने अपनी धर्मपत्नी के साथ आकाशवाणी के समीप स्थित केंद्रीय विद्यालय में बने पाेलिंग बूथ पर पहुंचकर मतदान किया।

ग्रामीण क्षेत्र में दोपहर तक हो गया 70 प्रतिशत मतदानः पिछले नगरीय निकाय चुनाव में ग्वालियर नगर निगम सीमा में जोड़े गए छह ग्रामीण वार्डों में इस बार मतदाताओं में सर्वाधिक उत्साह देखा गया। यहां सुबह से लंबी-लंबी कतारें लगी रहीं। दोपहर एक से तीन बजे तक ही मतदान 70 प्रतिशत तक पहुंच गया।

मतदान की धीमी रफ्तार ने राजनीतिक दलाें की परेशानी काे बढ़ा दिया है। उधर ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में वार्ड क्रमांक तीन पूर्व पार्षद शिवदयाल छैया के साथ मारपीट की गई है। इस दाैरान पूर्व पार्षद का नाले में खड़े हुए वीडियाे भी वायरल हाे रहा है। जिसमें वह पूर्व पार्षद साेनू राजपूत पर मारपीट लगाते हुए कह रहे हैं कि कचाैड़ी खा रहे थे, तभी उनके साथ मारपीट की गई। इसके बाद बहाेड़ापुर थाने पर पूर्व पार्षद एवं उनके समर्थक पहुंच गए हैं। खबर लिखे जाने तक हंगामा जारी था। उधर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह ताेमर मतदान करने के बाद बारादरी चाैराहा मुरार स्थित पान की दुकान पर पहुंचे और पान का स्वाद लिया।

इस दाैरान जीवाजीगंज स्थित मतदान केंद्र पर भी भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच तनाव की स्थिति बन गई, हालांकि पुलिस बल ने भीड़ काे खदेड़ दिया। भाजपा नेता जयभान सिंह पवैया व नगरनिगम आयुक्‍त किशोर कन्‍याल ने भी मतदान केंद्रों पर पहुंचकर वोट डाला। इसके साथ ही बूथों पर मोबाइल से पर्चियां निकालने के लिए कर्मचारियों को तैनात किया था। लेकिन सर्वर डाउन होने से पर्चियां निकल नहीं पा रही थी।

मतदान केंद्राें के निरीक्षण के दाैरान कलेक्टर काैशलेंद्र विक्रम सिंह और निगमायुक्त किशाेर कान्याल शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 2 मुरार के मतदान केंद्र पर पहुंचे। यहां पर्ची न पहुंचने काे लेकर लाेगाें ने शिकायत दर्ज कराई, वहीं कर्मचारियाें ने भाेजन व्यवस्था काे लेकर शिकायत की है।

जब जवाब तलब किया ताे अधिकारी एक दूसरे पर जिम्मेदारी डालते हुए नजर आए। वहीं केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 2 बारादरी चौराहा मुरार ग्वालियर के मतदान केंद्र क्रमांक 509 में अपनी धर्मपत्नी के साथ पहुंचकर मतदान किया।

ग्वालियर से भाजपा महापौर प्रत्याशी सुमन शर्मा ने एमआईटीएस कॉलेज मेला रोड मतदान केंद्र पंचशील वार्ड 21 के मतदान केंद्र क्रमांक 408 में अपना मतदान किया। लेकिन इस दौरान मतदान करने आने वाले क्षेत्र वासियों ने उनसे शिकायत की तो उन्होंने कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी से की शिकायत। गौरतलब है कि प्रत्याशी सुमन शर्मा का मतदान केंद्र भी बदल गया जिसकी जानकारी भी उन्हें नहीं थी। इधर ओरेकल पबलिक स्कूल, राक्सी टाकीज। पर्ची को लेकर गफलत। पर्चियां नहीं मिल रहीं थी।

मतदाता सूची में नाम नहीं हाेने से हुई परेशानीः सुबह से ही मतदान केंद्रों पर मतदाताओं के सामने समस्या आई। वे मतदान केंद्रों पर पहुंचे और जब वोट देने पहुंचे तो मतदाता सूची में उनके नाम नहीं मिले। सूची में नाम न होने से मतदान कर्मियों ने उन्हें वोट नहीं डालने दिया। इसके बाद वे निराश होकर लौट आए। ऐसा ही कुछ मुरार में भी हुआ। प्रगति विद्यापीठ मुरार के मतदान केंद्र पर रमेश अपनी धर्म पत्नी हेमा रमेश के साथ मतदान केंद्र पर पहुंचे तो उन्हें अपना मतदान केंद्र ढूंढने में हुई परेशानी।उनके बेटे राहुल का नाम सूची मे मिला लेकिन उन्हें निराश होकर बिना मतदान के लौटना पड़ा। इधर माधौगंज के रत खाना स्थित पोलिंग बूथ पर दस मिनट देरी से शुरू हुआ मतदान। ऐसे में मतदाताओं को परेशानी उठानी पड़ी।

मतदान केंद्रों पर मतदान शुरू होने से पहले कर्मचारियों राजनीतिक दलों की उपिस्थति में माकपोल हुआ। माकपोल के बा सात बजे से मतदान शुरू हो गया। शहर के तकरीबन सभी मतदान केंद्रों पर मतदाता पहुंच गए। हालांकि शुरुआत थोड़ी धीमी थी। लेकिन जिस तरह से मतदाता पहुंच रहे हैं, इससे उनके उत्साह को समझा जा सकता है। मतदान करने के बाद मतदाता सेल्फी लेना नहीं भूल रहे हैं।

100 वर्षीय रामश्री बाई ने किया मतदानः रामनगर निवासी 100 वर्षीय रामश्री बाई अपने नाती मनाेज बागरी के साथ शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक दाे मुरार में पहुंचकर अपने मताधिकार का प्रयाेग किया।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close