ग्वालियर। सोमवार को दिन में 10 घंटे आसमान से आग बरसी। इस कारण अधिकतम तापमान 47.8 डिग्री रिकार्ड होने से 48 डिग्री के करीब पहुंच गया। तापमान बढ़ने से दोपहर में आग जैसी तपन का अहसास हुआ। इससे सड़कों पर सन्नाटा रहा। मोबाइल पर तापमान देखकर लोग घबरा रहे थे और गर्मी की चर्चा रही। एक दूसरे अलर्ट भी करते रहे। मौमस विभाग के अनुसार 12 जून तक तापमान कम होने की संभावना नहीं है। 11 जून को तापमान 48 सेल्सियस रिकार्ड होने की आशंका जताई है। 78 साल बाद ऐसी भीषण गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। वह भी लगातार।

राजस्थान में प्रतिचक्रवात बनने के कारण ग्वालियर-चंबल संभाग राजस्थानी हवाओं की चपेट में है। साथ ही इसने नमी लेकर आने वाली हवाओं को पीछे की ओर धकेल दिया है। इस कारण आंधी और बारिश की स्थिति नहीं बन पा रही है। 6 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से लू चल रही है। सोमवार को सीजन का सब से गर्म दिन भी रहा है। मौसम विभाग के पास मौजूद रिकार्ड पर नजर डालें तो 30 मई 1947 को 48.3 डिग्री तापमान रिकार्ड हुआ था। इसके मई व जून में 47.5 डिग्री के ऊपर तापमान नहीं निकला है। पहली बार तापमान 47.8 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा है।