- 19 के आएगा बारिश का दूसरा दौर, इस बारिश में घोषित होे के आसार

Gwalior Weather News: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। प्रदेश के दक्षिण व पूर्वी हिस्सों में मानसून पहुंच गया है और झमाझम बारिश कर रहा है, लेकिन ग्वालियर संभाग के गुना अशोकनगर जिले में 72 घंटों में मानसून की दस्तक हो सकती है, लेकिन ग्वालियर को मानसून की बारिश के लिए 12 दिन इंतजार करना पड़ सकता है। बारिश का दूसरा दौर 19 जून के बाद शुरू होगा, उसी बारिश में मानसून के घोषित होने के आसार रहेंगे, लेकिन प्री मानसून का दौर 13 जून से शुरू हो रहा है। 14 व 15 जून को मध्य बारिश के आसार हैं। यह बारिश शहर को उमस भरी गर्मी से राहत दे सकती है। 20 से 30 मिली मीटर तक बारिश दर्ज हो सकती है। इस बार ग्वालियर में मानसून समय से दो या तीन दिन पहले आने के आसार दिख रहे हैं।

बंगाल की खाड़ी में कम दवाब का क्षेत्र विकसित हो चुका है। यह कम दवाब का क्षेत्र विकसित हो चुका है। यह मजबूत होकर बिहार झारखंड की ओर बढ़ रहा है। इससे मानसून आगे बढ़ेगा, लेकिन मानसून सीजन का पहला सिस्टम है। इससे हवा मेें नमी की मात्रा बढ़ जाएगी। यह नमी बादलों के रूप में बदलकर बरसना शुरू होगी। प्रदेश में ग्वालियर में सबसे कम बारिश हुई है। 13 से 15 जून के बीच होने वाली प्री मानसून की बारिश से शहर का सूखा दूर होगा। ग्वालियर में मानसून आगमन की सामान्य तारीख 24 से 26 जून है।

बूंदाबांदी ने पहुंचाई राहत

गुरुवार-शुक्रवार की रात मौसम में बदलाव आ गया। शहर में बूंदाबादी हुई। मौसम विभाग में 0.4 मिमी बारिश दर्ज हुई। इस बारिश से मौसम में ठंडक आ गई। पिछले चार दिनों से गर्मी से बेहाल थे, उससे राहत मिल गई। शुक्रवार को उत्तर पूर्वी हवा चलने से उमस में कमी आई है। न्यूनतम तापमान 33.5 डिसे घटकर 26.5 डिसे पर आ गया है। अधिकमत तापमान 40.8 डिसे रिकार्ड हुआ। दिन व रात का तापमान सामान्य से नीचे रहने से गर्मी से राहत रही।

दूसरे सिस्टम से बढ़ेगा मानसून आगे

- बंगाल की खाड़ी का पहला सिस्टम विकसित होने के बाद आगे बढ़ने लगा है। यह मजबूत होकर 16 जून तक बारिश करेगा। 19 जून को दूसरा कम दवाब का क्षेत्र विकसित होने के आसार दिख रहे हैं।

- दूसरे सिस्टम से मानसून उत्तर भारत की ओर आगे बढ़ने के आसार हैं। इस दौर में ग्वालियर में मानसून आएगा। जून में सामान्य बारिश के आसार दिख रहे हैं।

गुना अशोकनगर की बारिश से फायदा ग्वालियर

गुना अशोकनगर की बारिश से मढीखेड़ा बांध भरता है। यदि सिंध के कैचमेंट में बारिश होती है तो यह बांध तेजी से भर सकता है। पिछले साल कम बारिश होने की वजह से खाली पड़ा है। मढीखेड़ा से ग्वालियर व शिवपुरी जिले में सिंचाई होती है।

- मढीखेड़ा डेम से हरसी डेम को भरा जाता है। हरसी से डबरा व भितरवार, मुरार के क्षेत्र में सिंचाई होती है। पिछले साल हरसी हाई लेवल नहर ने आतरी तक धान की फसल कराई थी।

अधिकतम तापमान-40.8 डिसे

न्यूनतम तापमान-26.8डिसे

पारे की चाल

समय तापमान

05:30 27.0

08:30 29.8

11:30 36.0

14:30 39.6

17:30 39.4

इनका कहना है

ग्वालियर में 13 जून से मध्य बारिश के आसार हैं। मध्यम बारिश की संभावना है। मानसून 19 जून के बाद होने वाली बारिश में घोषित होने के आसार हैं। गुना अशोकनगर जिलों में 72 घंटे में मानसून घोषित हो सकता है।

वेदप्रकाश सिंह, रडार प्रभारी मौसम केंद्र भोपाल

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags