अजय उपाध्याय, ग्वालियर नईदुनिया। साऊदी अरब में बायोकेमिस्ट्री के प्रो डा अल्ताफ ढाई साल बाद भारत अपनी पत्नी डा रुमाना फरुकी और बेटे अरमान व रायना के साथ लौटे थे। अल्ताफ का कहना था कि वह नई दिल्ली से शहडोल के लिए उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस के एसी कोच ए-1 में सवार हुए थे। परिवार के लिए वह करीब 3 लाख के तोहफे लेकर आए थे, जिन्हें 13 बैगों में भरकर रखा था, लेकिन आग में 11 बैग जलकर खाक हो गए। रुमाना का कहना था कि जहां पर हमारी सीट थी, उसी के बगल से टायलेट से धुंआ निकला। टीसी द्वारा आग बुझाने के लिए प्रयास किए, लेकिन सफल नहीं हो सके। आग भड़की तो हम सब अपना सामान व जूते चप्पल छोड़कर दूसरे कोच की ओर भागे।

गौरतलब है कि मुरैना के पास उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस के तीन एसी कोच में आग लगने से आगरा-ग्वालियर रेल मार्ग पर ट्रेनों का संचालन प्रभावित रहा। ग्वालियर की ओर जाने वाली एक दर्जन ट्रेन आसपास के स्टेशनों पर करीब चार घंटे खड़ी रहीं। ऐसे में यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। आगरा कैंट और राजा की मंडी स्टेशन व ग्वालियर स्टेशन पर यात्रियों की भीड़ लगी रही। शाम करीब सात बजे यातायात बहाल हो गया। ट्रेन संख्या 20848 उधमपुर-दुर्ग एक्सप्रेस शुक्रवार दोपहर 1.55 बजे आगरा कैंट रेलवे स्टेशन से ग्वालियर के लिए रवाना हुई थी। मुरैना के हेतमपुर पर तीसरे पहर सवा तीन बजे ट्रेन के दो एसी कोच में आग लग गई। ट्रेन को मुरैना पर रोका गया। आगरा रेल मंडल के अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच गए। उत्तर मध्य रेलवे के सीपीआरओ शिवम शर्मा ने बताया कि शाम सात बजे आगरा-ग्वालियर ट्रैक बहाल हो गया है। ट्रेन के ए-1 व ए-2 कोच में आग लगी थी। मुरैना के हेतमपुर पर ट्रेन को रोककर फायर ब्रिगेड की मदद से आग पर काबू पाया गया। हादसे में कोई यात्री हताहत नहीं हुआ है। सभी यात्रियों को दूसरे कोच में शिफ्ट कर ट्रेन को रवाना कर दिया गया। हादसे के चलते करीब एक दर्जन ट्रेन प्रभावित हुई हैं।

शादी में शामिल होने जा रहे थे सामान आग में जल गयाः दिल्ली से रायपुर में शादी समारोह में शामिल होने जा रहे रविदत्त शर्मा का कहना था कि उनके तीन बैग थे। जिनमें एक लाख रुपये के गहने रखे थे। तीनों बैग जलकर खाक हो गए। आग इतनी तेजी से भडकी कि बैग उठाने की हिम्मत ही नहीं हुई। उस समय तो अपनी जान बचाने की पड़ी थी।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local