ग्वालियर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर की पॉश कॉलोनी हरिशंकरपुरम में रवि दीक्षित के घर में घुसकर लूट करने वाले बदमाशों का दूसरे दिन भी कोई सुराग नहीं लग सका है। वारदात के बाद क्षेत्र के लोग चड्डी-बनियान गिरोह के आने की आशंका से भयभीत हैं। हालांकि शुरूआती जांच के बाद पुलिस ने दावा किया है कि इस वारदात में स्थानीय बदमाशों का हाथ है, क्योंकि उनकी भाषा देहाती थी।

वे गुमराह करने के लिए चड्डी-बनियान पहनकर घर में घुसे थे, ताकि पुलिस राजगढ़ के कंजरों पर संदेह कर गुमराह हो जाए। कॉलोनी में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज देखकर पुलिस इस बात का पता लगाने का प्रयास कर रही है कि बदमाशों ने कपड़े कहां से चेंज किए। वारदात के बाद एसपी ने गश्त में कसावट लाने के निर्देश दिए हैं।

हरिशंकरपुरम में निवास करने वाले रवि दीक्षित पिता पुरुषोत्तम दीक्षित की सोमवार की रात को तबियत बिगड़ने पर वे उन्हें इलाज के लिए मां के साथ अस्पताल लेकर गए थे। इस दौरान घर में पत्नी मानसी अकेली थी। तभी सात बदमाशों की गैंग गुरुकृपा अपार्टमेंट के ग्राउंड फ्लोर पर स्थित फ्लैट में खिड़की के रास्ते से घर के अंदर दाखिल हुई थी।

तीन बदमाश घर के अंदर दाखिल हुए थे। चार घर के बाहर खड़े होकर निगरानी कर रहे थे। बदमाश घर में से एक लाख रुपए, पांच तौले सोने के गहने व एलसीडी लूटकर ले गए। झांसी रोड थाना पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज कर लिया है।

कंजर केवल कैश व गहने लूटते हैं

पुलिस का कहना है कि कंजर केवल सोने-चांदी के गहने व कैश समेटते हैं, लेकिन रवि दीक्षित के घर में घुसे बदमाश बैडशीट, ब्लैंककिट व एलसीडी भी समेटकर ले गए हैं और उनकी भाषा भी देहाती थी। जबकि कंजरों की भाषा अलग होती है। इसी आधार पर पुलिस लुटेरों तक पहुंचने के लिए स्थानीय बदमाशों को टटोल रही है।

दहशत का माहौल

हरिशंकरपुरम व उसके आसपास की कॉलोनियों के लोग दहशत में हैं। मंगलवार की रात को लोग खिड़की दरवाजे ठीक ढंग से बंद कर सोए। लोग जरा सी आहट सुनकर उठ गए। अपार्टमेंटों में रहने वाले लोगों ने चौकीदारों को अलर्ट कर दिया है।

मुस्तैदी के साथ करें गश्त, रात में घूमने वाले लोगों को टोकें

एसपी नवनीत भसीन ने रात में गश्त करने वाले अधिकारियों व जवानों को निर्देशित किया है कि वे बाजारों के साथ कॉलोनी व गली मोहल्लों में सायरन व सीटी बजाकर गश्त करें और रात में घूमने वाले लोगों को टोकें, उनके मोबाइल भी चेक करें। अगर कोई व्यक्ति संदिग्ध लगता है उसे पकड़कर थाने भेज दें। सुबह उसकी पूरी तस्दीक करने के बाद ही छोड़े। चोरी व लूट की वारदात होने पर गश्ती दल पर कार्रवाई होगी इसलिए गश्त पूरी मुस्तैदी के साथ करें।