- बंगाल की खाड़ी में सिस्टम बनने से 28 से आएंगे बादल, 29 व 30 जून के बीच मानसून की बारिश के आसार

ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। उत्तर प्रदेश में बने चक्रवातीय घेरे से शहर का मौसम बदल दिया है। उत्तरी हवा ने पूरी नमी सोख ली है, जिससे बादल भी नहीं छा पा रहे हैं। इस कारण गर्मी ने रफ्तार पकड़ ली है। अधिकतम तापमान 40.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। इससे भीषण गर्मी हो रही है। मौसम विभाग के अनुसार 25 से 27 जून के बीच दिन के तापमान में बढ़ोतरी जारी रहेगी। दो से तीन डिग्री तक तापमान बढ़ सकता है। अधिकतम तापमान 42 से 43 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। बंगाल की खाड़ी में सिस्टम बनने के बाद 28 जून से हल्के बादल आएंगे। 29 से 30 जून के बीच मानसून की झमाझम बारिश के आसार बनेंगे।

बंगाल की खाड़ी व अरब सागर में मानसून सक्रिय होने से तेज गति से बढ़ा था, लेकिन इन सिस्टम के कमजोर पड़ने से बारिश थम गई। मानसून के कदम शिवपुरी ठहरे हुए हैं। मानसून के ठहर जाने से गर्मी बढ़ने लगी है। अधिकतम तापमान सामान्य से 0.9 डिसे अधिक रहा, जिससे दिन में गर्म हवा चलने लगी है। बीते दिनों हुई बारिश से जो राहत मिली थी, वह खत्म हो गई। दिन में गर्मी बेहाल करने लगी है। इस गर्मी को देखते हुए लोगों को मानसून की बारिश का इंतजार है।

इन कारणों से हो रही गर्मी

- उत्तर प्रदेश के पास चक्रवातीय घेरा बना हुआ है। इस घेरे के कारण हवा का रुख उत्तर पश्चिमी हो गया है। अरब सागर व बंगाल की खाड़ी से जो नमी आना चाहिए, वह नहीं आ रही है। हवा में जो नमी थी, वह भी सूख चुकी है। इस कारण आसमान साफ हो गया है। सूरज की किरणें सीधे धरती पर पड़ रही हैं। तेज धूप होने की वजह से गर्मी बढ़ रही है।

- ग्वालियर में मानसून पूर्व की भी अच्छी बारिश नही हो सकती है, जिसकी वजह जमीन सूखी है। तेज धूप होने के कारण यह तप रही है।

- जम्मू कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ भी सक्रिय है। यह काफी कमजोर है। पश्चिमी विक्षोभ से भी नमी नहीं आ पा रही है।

-ग्वालियर में मानसून पूर्व की हलचल से ज्यादा बारिश नहीं हो सकी है। जून के 24 दिनों में 16.5 मिमी बारिश हुई है। औसत तक पहुंचने के लिए 62.5 मिमी बारिश की जरूरत है। इस बार भी जून में औसत बारिश की संभावना कम दिख रही है। जो वर्षा होने वाली है, महीने के अंत के दो दिनों में संभव है।

- जून में औसत बारिश नहीं होने से खरीफ बोवनी लेट हो रही है। जून की वर्षा में दलहन सहित अन्य फसलें बोई जाती हैं।

अधिकतम तापमान-40.5 डिसे

न्यूनतम तापमान-25.5 डिसे

कुल बारिश 16.5 मिमी

पारे की चाल

समय तापमान

05:30 26.4

08:30 33.0

11:30 37.4

14:30 39.8

17:30 39.4

इनका कहना है

मौसम को प्रभावित करने वाला सिस्टम नहीं है। इस वजह से ग्वालियर को तीन दिनों तक गर्मी का सामना करना होगा। बंगाल की खाड़ी में सिस्टम बनने के बाद बारिश की संभावना बनेगी। 29 व 30 जून को मानसून बारिश हो सकती है।

डा वेदप्रकाश सिंह, रडार प्रभारी मौसम केंद्र भोपाल

Posted By: anil tomar

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close